वरुण गांधी को किसानों के पक्ष में बोलना पड़ा भारी, BJP ने मेनका गांधी को भी राष्ट्रीय कार्यकारिणी से किया बाहर

लखीमपुर हिंसा पर लगातार योगी सरकार को घेर रहे वरुण गांधी ने आज सुबह ही एक वीडियो शेयर करते हुए लिखा था कि हत्या के जरिए प्रदर्शनकारियों को चुप नहीं कराया जा सकता और जवाबदेही तय होनी चाहिए। उनके इन तेवरों से बीजेपी को लगातार परेशानी हो रही थी।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने गुरुवार को अपनी नई टीम का ऐलान किया है। खास बात ये है कि जेपी नड्डा द्वारा गठित बीजेपी की इस नई राष्ट्रीय कार्यकारिणी से बीजेपी सासंद वरुण गांधी और उनकी माता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी को भी बाहर कर दिया गया है। वहीं, नई टीम में केंद्रीय मंत्री और अमेठी से सासंद स्मृति ईरानी की वापसी हो गई है।

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह ने नई कार्यकारिणी की लिस्ट जारी करते हुए कहा कि बीजेपी अध्यक्ष जे पी नड्डा ने राष्ट्रीय कार्यसमिति में 80 सदस्यों की नियुक्ति की है। इनके साथ ही विशेष आमंत्रित सदस्य के तौर पर 50 और स्थायी आमंत्रित सदस्य ( पदेन) के तौर पर 179 नेताओं को शामिल किया गया है जिनमें पार्टी के मुख्यमंत्री, उप मुख्यमंत्री, विभिन्न विधान सभा एवं विधान परिषद में विधायक दल के नेता, पूर्व उप मुख्यमंत्री, राष्ट्रीय प्रवक्ता, राष्ट्रीय मोर्चा अध्यक्ष, प्रदेश प्रभारी, प्रदेश सह प्रभारी, प्रदेश अध्यक्ष और प्रदेशों के संगठन महासचिव शामिल हैं।


बीजेपी की नई राष्ट्रीय कार्यकारिणी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह, अमित शाह , नितिन गडकरी समेत कई दिग्गजों को भी शामिल किया गया है। लेकिन सबसे ज्यादा चौंकाने वाला तथ्य यह रहा कि इस नई कार्यकारिणी से मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में केंद्रीय मंत्री रह चुकीं और वर्तमान में उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर से लोकसभा सांसद मेनका गांधी को बाहर कर दिया गया है। उनके बेटे और उत्तर प्रदेश के पीलीभीत से लोकसभा सांसद वरुण गांधी को भी राष्ट्रीय कार्यकारिणी से बाहर कर दिया गया गया है।

हाल के दिनों में लखीमपुर हिंसा को लेकर वरुण गांधी लगातार योगी सरकार से कार्रवाई करने की मांग कर रहे थे। वरुण ने सीएम योगी आदित्यनाथ को लिखे पत्र में भी लखीमपुर में किसानों की हत्या का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की थी। वरुण गांधी ने गुरुवार को सुबह ही एक वीडियो शेयर करते हुए लिखा था कि हत्या के जरिए प्रदर्शनकारियों को चुप नहीं कराया जा सकता और जवाबदेही तय होनी चाहिए। वरुण गांधी के इन तेवरों की वजह से ही बीजेपी को लगातार परेशानी हो रही थी और ऐसे में पार्टी अध्यक्ष के इस फैसले को नाराजगी के तौर पर भी देखा जा रहा है।


जेपी नड्डा की इस नई टीम में कई दलबदल कर पार्टी में आए नेताओं को जगह दी गई है।फिल्म अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती, केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, शुभेंदु अधिकारी के अलावा अन्य पार्टियों से आए कई नेताओं को भी राष्ट्रीय कार्यसमिति में जगह दी गई है। वहीं पार्टी के कई पुराने नेता इस बार राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य नहीं बनाए गए हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia