राजस्थान में बीजेपी के स्टार प्रचारकों की लिस्ट से वसुंधरा का नाम गायब, पार्टी में हाशिये पर पहुंचीं पूर्व सीएम

वसुंधरा उपचुनाव में खासी सक्रिय हैं और अपने समर्थकों को बीजेपी के खिलाफ निर्दलीय तौर पर चुनाव लड़ने के लिए कह रही हैं। उन्होंने तो रणधीर सिंह भिंडर द्वारा स्थापित राजनीतिक संगठन जनता सेना के टिकट पर अपने अनुयायियों को मैदान में उतारने की योजना भी बनाई है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

राजस्थान में 3 सीटों पर होने जा रहे उपचुनाव के लिए बीजेपी के स्टार प्रचारकों की सूची जारी कर दी गई है। लेकिन सबसे खास बात ये है कि इस लिस्ट से पूर्व मुख्यमंत्री और पार्टी की कद्दावर नेता वसुंधरा राजे का ही नाम गायब है। बीजेपी के इस कदम से माना जा रहा है कि पार्टी ने पूर्व सीएम को हाशिये पर धकेल दिया है।

राजस्थान की राजसमंद, सहाड़ा और सुहानगढ़ सीट पर 17 अप्रैल को उपचुनाव होना है। बीजेपी ने यहां पीएम नरेंद्र मोदी के नाम पर ही चुनाव लड़ने की योजना बनाई है, जिसमें उनकी योजनाओं के नाम पर वोट मांगे जाएंगे। उपचुनाव के लिए स्टार प्रचारकों की सूची में 3 केंद्रीय मंत्री- गजेंद्र सिंह शेखावत, अर्जुन राम मेघवाल और कैलाश चौधरी के नाम शामिल हैं। वहीं राज्य की पूर्व सीएम राजे, राज्य प्रमुख सतीश पूनिया, विपक्ष के नेता गुलाब कटारिया, विपक्ष के उप-नेता राजेंद्र राठौर के नाम लिस्ट से गायब हैं।

वहीं, बीजेपी सूत्रों ने कहा है कि प्रमुख प्रचारकों में राजस्थान के प्रभारी अरुण सिंह का नाम रहेगा।वहीं वरिष्ठ नेताओं ने वसुंधरा राजे के नाम गायब रहने पर कहा कि चूंकि वह पार्टी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं, ऐसे में उनका बड़ा रोल राष्ट्रीय राजनीति में है, जिसके चलते उपचुनाव में उनकी भूमिका सीमित है।

हालांकि, बीजेपी के अन्य सूत्रों का कहना है कि राजे उपचुनावों में खासी सक्रिय हैं और वे अपने अनुयायियों को बीजेपी उम्मीदवारों के खिलाफ निर्दलीय तौर पर चुनाव लड़ने के लिए कह रही हैं। बल्कि उन्होंने तो रणधीर सिंह भिंडर द्वारा स्थापित किए गए एक स्थानीय राजनीतिक संगठन जनता सेना के टिकट पर अपने अनुयायियों को मैदान में उतारने की योजना भी बनाई है। बता दें कि भिंडर को कट्टर राजे समर्थक माना जाता है।

बीजेपी के एक सूत्र ने कहा हमने राज्य संगठन के करीब 50 प्रतिशत से ज्यादा वसुंधरा अनुयायियों को निर्दलीय चुनाव लड़ने की योजना को त्यागने के लिए मना लिया है। अभी 2-3 उम्मीदवार बाकी हैं, उन्हें भी हम मना लेंगे। उन्होंने आगे कहा कि राजे के समर्थकों से मदद मांगे बिना भी हम तीनों सीटें जीतने के लिए आश्वस्त हैं। हमारा जमीनी सर्वेक्षण हमारी जीत की पुष्टि करता है। हालांकि मंगलवार को बीजेपी उम्मीदवार ने राजसमंद सीट से नामांकन पत्र दाखिल किया, लेकिन वहां राजे कहीं नहीं नजर आईं।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय