दिग्गज गायक एस पी बालासुब्रमण्यम का कोरोना से निधन, बॉलीवुड से दक्षिण तक कई यादगार गीतों का दी अपनी आवाज

पद्म पुरस्कार से सम्मानित 74 वर्षीय दिग्गज पार्श्व गायक बालासुब्रमण्यम ने 5 अगस्त को बताया था कि कोरोना वायरस के हल्के लक्षण मिलने के कारण वह अस्पताल में भर्ती हुए हैं। उन्होंने दो दिनों में अस्पताल से छुट्टी मिलने की उम्मीद जताई थी, लेकिन ऐसा नहीं हो सका।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

प्रसिद्ध पाश्र्व गायक और पद्म पुरस्कार से सम्मानित एस.पी. बालासुब्रमण्यम का शुक्रवार को चेन्नई के अस्पताल में निधन हो गया। वह कोरोना संक्रमित थे और करीब दो महीने से अस्पताल में भर्ती थे। उनके बेटे एस.पी. चरण ने यह जानकारी दी। चेन्नई के एमजीएम हेल्थकेयर के बाहर मीडिया को चरण ने बताया कि बालासुब्रमण्यम का निधन अपराह्न 1.04 बजे हुआ। उन्होंने इलाज और सेवा के लिए अस्पताल के अधिकारियों को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि आगे की जानकारी बाद में साझा की जाएगी।

74 वर्षीय दिग्गज पार्श्व गायक बालासुब्रमण्यम ने 5 अगस्त को एक फेसबुक पोस्ट में बताया था कि उनमें कोरोना वायरस के हल्के लक्षण हैं और आराम के लिए वह अस्पताल में भर्ती हुए हैं। उन्होंने कहा था कि हालांकि डॉक्टरों ने उन्हें घर पर रहने और आराम करने की सलाह दी है, लेकिन उन्होंने अस्पताल में रहने का फैसला किया, क्योंकि घर पर उनके परिवार के सदस्य चिंतित होंगे। उन्होंने दो दिनों में अस्पताल से छुट्टी मिलने की उम्मीद जताई थी, लेकिन ऐसा नहीं हो सका।

कुछ समय के लिए उनकी हालत में सुधार देखने को मिला था, लेकिन गुरुवार को अस्पताल ने बयान जारी कर बताया कि उनकी हालत बेहद गंभीर है। एमजीएम हेल्थकेयर ने गुरुवार को कहा था कि गायक ईसीएमओ और अन्य लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर बने हुए हैं। अस्पताल ने कहा था, "पिछले 24 घंटों में उनकी हालत काफी ज्यादा बिगड़ गई है, जिसके चलते आगे भी लाइफ सपोर्ट सिस्टम को बढ़ाए जाने की जरूरत पड़ सकती है। हालत बेहद नाजुक है। एमजीएम में विशेषज्ञों की टीम उनकी सेहत पर कड़ी निगरानी बनाए हुए हैं।"

दिग्गज गायक बालासुब्रमण्यम ने पांच दशकों की अवधि में 16 भाषाओं में 40,000 से अधिक गाने गाए हैं। उन्हें चार भाषाओं- तेलुगू, तमिल, कन्नड़ और हिंदी गानों के लिए 6 बार सर्वश्रेष्ठ गायक का राष्ट्रीय पुरस्कार दिया गया। भारत सरकार ने उन्हें साल 2001 में पद्मश्री और 2011 में पद्मभूषण से सम्मानित किया था। गाने के अलावा उन्होंने अभिनय, म्यूजिक डायरेक्टर, डबिंग आर्टिस्ट और फिल्म प्रोड्यूसर के रूप में भी काम किया। उनका नाम सबसे ज्यादा गाना गाने के लिए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज है।

लोकप्रिय
next