हालात

वीडियो: पंजाब के संगरूर में 109 घंटे के बाद बोरवेल से निकाला गया बच्चा, अस्पताल में भर्ती, हुई मौत

पंजाब के संगरूर में बोरवेल में गिरे बच्चे फतेहवीर सिंह को मंगलवार सुबह निकाल लिया गया है। बताया जा रहा है कि करीब 109 घंटे के रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद बच्चे को बोरवेल से निकाल लिया गया, लेकिन उसे बचाने में कामयाब नहीं हो पाए। खबरों के मुताबिक बच्चे को अस्पताल ले जाया गया , लेकिन उसकी मौत हो गई।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

पंजाब के संगरूर में 125 फीट गहरे बोरवेल में गिरे बच्चे ने आखिरकार मौत के आगे हार गया।मंगलवार की सुबह करीब 5:12 बजे फतेहवीर सिंह को बोरवेल से सुरक्षित निकालकर बठिंडा अस्पताल ले जाया गया। बताया जा रहा है कि जब बच्चे को बोरवेल से निकाला गया, तब उसकी हालत काफी नाजुक थी। ऐसे में उसे बठिंडा अस्पताल में एडमिट कराया गया। यहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

खबरों के मुताबिक, जब बच्चे को बोरवेल से बाहर निकाला गया था तब बच्चे के शरीर पर सूजन थी। बता दें कि फतेहवीर गुरुवार (6 जून) शाम करीब 4 बजे खेलते वक्त बोरवेल में गिर गया था।

इससे पहले संगरूर के डिप्टी कमिश्नर जी थोरी ने बताया कि अभी उसके स्वास्थ्य के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है। उसे यहां से चंडीगढ़ के पटियाला अस्पताल या पीजीआईएमईआर ले जाया सकता है। रेस्क्यू ऑपरेशन में प्रशासन की टीम के साथ, एनडीआरएफ और आर्मी की 119 असॉल्ट इंजीनियरिंग टीम ने काम किया। स्थानीय लोगों ने भी इस ऑपरेशन को पूरा सहयोग दिया था। इस बोरवेल के ठीक बगल में 41 इंच की एक टनल तैयार की गई। मशीनों से काम करना मुश्किल होने पर हाथों से खुदाई की गई थी।

जिला उपायुक्त घनश्याम ठोरी ने कहा कि एक अत्याधुनिक, हाई डेंसिटी वाला ड्रिलिंग उपकरण काम में लगाया गया था, ताकि ठीक-ठीक दिशा और दूरी का सेंसर के जरिए पता लगाया जा सके।

इस ऑपरेशन से जुड़े अधिकारियों ने बताया था कि बच्चे को खाना-पीना तो नहीं दिया जा सका, लेकिन ऑक्सीजन की सप्लाई की गई। मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने सोमवार को एक ट्वीट में कहा था कि वह लगातार बचाव अभियान की निगरानी कर रहे हैं।

इस घटना से कुरुक्षेत्र में वर्ष 2006 में गिरे बच्चे प्रिंस को बचाने की याद ताजा हो गई है। प्रिंस को करीब 48 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद बाहर निकाला गया था।

Published: 11 Jun 2019, 8:44 AM
लोकप्रिय