वीडियो: देश को ऐसे नेताओं की जरूरत जो पीएम से बिना डरे कर सकें बात, मुरली मनोहर जोशी के इस बयान के मायने क्या?

मुरली मनोहर जोशी ने कहा कि मैं ऐसा समझता हूं कि आजकल ऐसे नेताओं की बहुत आवश्यकता है जो सिद्धांतों के साथ, बेबाकी के साथ और बिना कुछ इस बात की चिंता किए हुए कि प्रधानमंत्री नाराज होंगे या खुश होंगे अपनी बात साफ-साफ कहते हैं, उनसे बहस करते हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

बीजेपी के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी ने कहा कि देश को ऐसे नेताओं की आवश्यकता है जो सिद्धांतों के आधार पर पीएम के साथ बहस कर सकें और बिना किसी चिंता के अपने विचार व्यक्त कर सकें। ये बातें मुरली मनोहर जोशी ने मंगलवार को कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री जयपाल रेड्डी के निधन पर आयोजित प्रार्थना सभा में कही।

दिवंगत कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री एस जयपाल रेड्डी के श्रद्धांजलि कार्यक्रम में बोलते हुए मुरली मनोहर जोशी ने कहा कि रेड्‌डी ऐसे नेता रहे हैं जिन्होंने हमेशा तात्कालिक मुद्दों पर बात की और कभी भी अपने सिद्धांतों से समझौता नहीं की। उन्होंने कहा, “मैं ऐसा समझता हूं कि आजकल ऐसे नेतृत्व की बहुत आवश्यकता है जो सिद्धांतों के साथ, बेबाकी के साथ और बिना कुछ इस बात की चिंता किए हुए कि पीएम नाराज होंगे या खुश होंगे अपनी बात साफ-साफ कहते हैं, उनसे बहस करते हैं।

मुरली मनोहर जोशी ने सीपीएम नेता सीताराम येचुरी का उदाहरण देते हुए कहा, “अपने नाम के अनुरूप सीताराम हमारा (बीजेपी) साथ देते थे और कभी-कभी हम भी उनका (वामपंथी विचारधारा) साथ देते थे।”

बता दें कि बीजेपी के दिग्गज नेता और पार्टी के मार्गदर्शक मंडल के सदस्य मुरली मनोहर जोशी अपनी बातों को बीजेपी के खिलाफ भी बखूबी रखते रहे हैं। लोकसभा चुनाव के दौरान ने बीजेपी ने उनका कानपुर से टिकट काट दिया था। जिसके बाद उन्होंने कानपुर वासियों को भावुक पत्र लिखा था।

इससे पहले अपने बयान में कहा था, “हम लोगों ने पार्टी बनाई थी, बीज लगाया था और एक अच्छा पेड़ भी पैदा किया था। अब ये फलदायी पेड़ सारे देश को अच्छे से मिले इसकी जिम्मेदारी मोदी-शाह पर है।

लोकप्रिय
next