मणिपुर में 40 दिन से जारी हिंसा नियंत्रण के बाहर, पीएम मोदी तत्काल बुलाएं सर्वदलीय बैठकः कांग्रेस

पीएम मोदी की चुप्पी पर निशाना साधते हुए के सी वेणुगोपाल ने कहा कि प्रधानमंत्री ने पूरी तरह चुप्पी साध रखी है और उनकी सरकार ने अभी तक कोई ठोस कार्रवाई नहीं की है। केंद्र इसे जारी क्यों रहने दे रही है? इस विनाशकारी स्थिति के लिए कौन जवाबदेह हैं?

कांग्रेस ने मणिपुर में 40 दिन से जारी हिंसा पर पीएम मोदी से तत्काल सर्वदलीय बैठक बुलाने की मांग की
कांग्रेस ने मणिपुर में 40 दिन से जारी हिंसा पर पीएम मोदी से तत्काल सर्वदलीय बैठक बुलाने की मांग की
user

नवजीवन डेस्क

मणिपुर में जारी हिंसा के बीच इम्फाल में केंद्रीय मंत्री आर.के. रंजन सिंह के घर को भीड़ द्वारा आग के हवाले कर दिए जाने की घटना के बाद कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हिंसा प्रभावित मणिपुर में कानून-व्यवस्था की बिगड़ती स्थिति पर सर्वदलीय बैठक बुलाने की मांग की है। कांग्रेस महासचिव (संगठन) के.सी. वेणुगोपाल ने एक ट्वीट में कहा, मणिपुर पिछले 40 दिनों से जल रहा है और हिंसा नियंत्रण से बाहर हो रहा है। कानून के शासन का कोई आभास नहीं है और जो सत्ता में हैं वे स्वयं नरसंहार कर रहे हैं और हथियारों और गोला-बारूद के साथ उग्रवादियों की मदद कर रहे हैं।

मणिपुर मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुप्पी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, प्रधानमंत्री ने पूरी तरह चुप्पी साध रखी है और उनकी सरकार ने अभी तक कोई ठोस कार्रवाई नहीं की है। केंद्र सरकार इसे जारी क्यों रहने दे रही है? इस विनाशकारी स्थिति के लिए कौन जवाबदेह हैं? प्रधानमंत्री को तुरंत एक सर्वदलीय बैठक बुलानी चाहिए क्योंकि देश जवाब मांग रहा है। क्या वह आखिरकार एक केंद्रीय मंत्री के आवास पर हमला होने के बाद बोलेंगे?

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम ने मणिपुर में हुई हिंसा को लेकर सरकार की आलोचना की। चिदंबरम ने एक ट्वीट में कहा, कर्नाटक में डबल इंजन सरकार विफल रही और कर्नाटक के लोगों ने उसे बाहर का रास्ता दिखाया। डबल इंजन सरकार मणिपुर के लोगों को निराश कर रही है। एक इंजन (राज्य) का ईंधन खत्म हो गया है। दूसर इंजन (केंद्र) ने खुद को अलग कर लिया है और लोको शेड में छिपा हुआ है। जाहिर है कि बीरेन सिंह ने मणिपुर के सभी वर्गो का विश्वास खो दिया है। यह भी स्पष्ट है कि नरेंद्र मोदी मणिपुर के लोगों से बात करने को तैयार नहीं हैं, न ही शांति की अपील की है। गत 3 मई से, यानी पिछले 45 दिनों में प्रधानमंत्री ने मणिपुर पर एक शब्द भी नहीं बोला है और न ही जल रहे राज्य का दौरा किया है। यह वही सरकार है जो 'सबका साथ' की शेखी बघारती है।


कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने ट्वीट में कहा कि प्रधानमंत्री को मणिपुर के बारे में अपनी बात सुननी चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने पीएम मोदी का एक वीडियो भी साझा किया है जिसमें उन्हें यह कहते सुना जा सकता है कि एक समय था जब सरकारों ने मणिपुर को उसके हाल पर छोड़ दिया था।

गुरुवार देर रात मणिपुर में केंद्रीय मंत्री रंजन सिंह के घर में आग लगने के बाद कांग्रेस नेताओं की यह टिप्पणी आई है। उनके घर को पहले भी 25 मई को निशाना बनाया गया था जब हजारों लोगों ने आवास के सामने इकट्ठा होने का प्रयास किया था, लेकिन सुरक्षा बलों ने उन्हें रोक दिया था। पुलिस ने कहा कि भीड़, जो जातीय संघर्ष के शीघ्र समाधान की मांग कर रही थी, ने सभी मंत्रियों और विधायकों पर आरोप लगाया कि वे संकट को समाप्त करने के लिए पर्याप्त कोशिश नहीं कर रहे हैं।

हिंसा की एक ताजा घटना में बुधवार को हमलावरों ने मणिपुर की उद्योग मंत्री नेमचा किपगेन के इम्फाल पश्चिम जिले के लाम्फेल इलाके में स्थित सरकारी आवास में आग लगा दी। राज्य की अकेली महिला मंत्री किपगेन उस समय घर पर नहीं थीं। पूर्वी इम्फाल जिले के खामलॉक गांव में मंगलवार देर रात संदिग्ध आतंकवादियों के हमले में कम से कम 11 लोगों की मौत हो गई और 23 अन्य घायल हो गए। अधिकारियों ने कहा कि मरने वालों की संख्या बढ़ने की संभावना है क्योंकि कई घायलों की हालत गंभीर बताई जा रही है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 16 Jun 2023, 10:28 PM
;