अफगानिस्तान में वीजा की कालाबाजारी चरम पर, विदेशी दूतावास बंद होने से फल-फूल रहा बाजार

काबुल में एक ट्रैवल एजेंसी के निदेशक के मुताबिक तजाकिस्तान के वीजा की वास्तविक कीमत 60 डॉलर है, लेकिन काला बाजार में यह लगभग 350 से 400 डॉलर है। तुर्की के वीजा की वास्तविक कीमत 120 डॉलर है, लेकिन काला बाजार में यह 5,000 डॉलर तक में बिक रहा है।

फोटोः GettyImages
फोटोः GettyImages
user

नवजीवन डेस्क

अफगानिस्तान में चुनी हुई सरकार के पतन के बाद काबुल में विदेशी दूतावासों के बंद होने के बावजूद दूसरे देशों के वीजा की मांग कम नहीं हुई है। ऐसे लोगों की संख्या बढ़ने के साथ ही देश में वीजा की कालाबाजारी का कारोबार आसमान छू रहा है। टोलो न्यूज के अनुसार, कई ट्रैवल एजेंसियों का कहना है कि इस समय केवल पाकिस्तान के वीजा कानूनी रूप से प्राप्त किए जा सकते हैं, लेकिन कई अन्य देशों के वीजा काले बाजार में ऊंचे दामों पर बेचे जा रहे हैं।

काबुल में एक ट्रैवल एजेंसी के निदेशक शफी समीम ने टोलो न्यूज को बताया कि लोग काला बाजार से नियमित कीमतों से दोगुने या तिगुने दाम पर वीजा खरीद रहे हैं। समीम के मुताबिक, लोग पाकिस्तान का 350 डॉलर तक, ताजिकिस्तान का 400 डॉलर, उज्बेकिस्तान का 1,350 डॉलर और तुर्की का 5,000 डॉलर तक में वीजा खरीद रहे हैं।


हालांकि, अफगानिस्तान में पिछली सरकार के पतन से पहले पाकिस्तान के वीजा की लागत लगभग 15 डॉलर थी, भारत की 20 डॉलर, ताजिकिस्तान और उजबेकिस्तान की लागत 60 डॉलर थी और तुर्की के लिए यह कीमत 120 डॉलर थी। रिपोर्ट में समीम ने कहा, "तजाकिस्तान के वीजा की वास्तविक कीमत 60 डॉलर है, लेकिन काला बाजार में यह लगभग 350 से 400 डॉलर है। तुर्की के वीजा की वास्तविक कीमत 120 डॉलर है, लेकिन काला बाजार में यह 5,000 डॉलर तक में बिक रहा है।

कई ट्रैवल एजेंसी के अधिकारियों ने विदेशों से काबुल में अपने दूतावासों को फिर से खोलने का आग्रह किया है, ताकि अफगान लोगों को वीजा जारी किया जा सके। काबुल निवासी मोहम्मद हारून ने कहा कि उसके पास पाकिस्तान का वीजा है, लेकिन वह तोरखम गेट को पार नहीं कर सकते। हारून के मुताबिक, पाकिस्तान में सीमा पार करने के लिए वीजा के अलावा 'गेट पास' की जरूरत होती है, जिसे पाकिस्तान दूतावास के पास के कुछ लोग ऊंची कीमत में बेच रहे हैं।

रिपोर्ट के अनुसार हारून ने कहा, "लोग यहां लंबे समय से इंतजार कर रहे हैं। उनके पास पाकिस्तान का वीजा है लेकिन तोरखम गेट से नहीं गुजर सकते। विक्रेताओं ने एक काला बाजार बनाया हुआ है और गेट पास को 200 डॉलर से 300 डॉलर में बेच रहे हैं।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia