पेट्रोल, महंगाई, आतंकवाद पर मोदी की बात, कहा था- चीन दबोच कर बैठा है भारत की सैकड़ों किलोमीटर ज़मीन

नरेंद्र मोदी जब तक गुजरात के मुख्यमंत्री थे और सांसद भी नहीं थे, तब वह बातें बड़ी ऊंची-ऊंची किया करते थे। लेकिन अब उनके पकवान फीके हो गए हैं। आइए सुनते हैं कि पेट्रोल के दाम, महंगाई और अन्य मुद्दों पर तब वह क्या-क्या कहते रहे हैं।

Getty Images
Getty Images
user

नवजीवन डेस्क

पेट्रोल की बढ़ती कीमतों पर ( 24 मई, 2012)

बात 24 मई 2012 की है। उन्होंने महंगाई और पेट्रोल के बढ़ते दामों पर क्या-क्या कहा था। उन्होंने कहा था, “रिपोर्ट कार्ड (पेश करने) के कुछ ही घंटों में उन्होंने देश में जिस प्रकार से पेट्रोल के दामबढ़ा दिए, यह दिल्ली सरकार (केंद्र की तत्कालीन मनमोहन सिंह सरकार) की शासन चलाने की नाकामयाबी का जीता-जागता सबूत है। (इससे) देश की जनता के अंदर भारी आक्रोश है। और इसके कारण और भी चीजों के दाम बढ़ेंगे। सरकार पर भी बहुत बड़ा बोझ होने वाला है। मैं आशा करूंगा कि प्रधानमंत्री जी देश की स्थिति को गंभीरता से लें और पेट्रोल के (जो) दाम बढ़ाए हैं, उसे वापस करें।"

सुनिए नीचे दिए गए वीडियो में क्या कह रहे हैं मोदी जी...

पाकिस्तान, लादेन और आतंकवाद पर (12 जून, 2011)

लादेन की इतनी बड़ी घटना घटी, सिद्ध हो चुका कि पाकिस्तान आतंकवाद की सब गतिविधियों को पनाह दे रहा है। इसके बावजूद यह देश अमेरिका पर यह दबाव नहीं डाल सका कि अमेरिका पाकिस्तान के खिलाफ कुछ तय करे। पाकिस्तान में जो घटना घटी, उसके खिलाफ दुनिया में जो स्वर उठना चाहिए था, वह नहीं उठा। हमारे देश में मुंबई में ट्रेन में इतना बड़ा भयंकर बम ब्लास्ट हो जाए, हमारे देश में होटल पर इतना बड़ा हमला हो जाए, उस समय दुनिया में जनमत पैदा करने में हम विफल हो जाते हैं। पाकिस्तान की धरती पर आतंकवाद का दुनिया का सबसे बड़ा सरगना मारा जाए, पाकिस्तान रेड हैन्डेड पकड़ा जाए, पूरे विश्व में आतंकवाद की जननी जहां- जहां है, उसके खिलाफ भारत माहौल नहीं बना पाया। हम इस मामले में नेतृत्व नहीं कर पाए। मौका गंवा दिया और अमेरिका भारत की भावनाओं का कोई आदर नहीं करता। यह दिशाहीन सरकार है। अगर यह पता चल जाता कि सरकार का नेता कौन है, कौन किसको पूछ के चले।


महंगाई और बढ़ती कीमतों पर (19 जून, 2012)

इन्हीं के कार्यकाल में महंगाई कहां से कहां पहुंच गई। एक तरफ जीडीपी का गिरना, दूसरी तरफ इन्फ्लेशन का बढ़ना। एक साल पहले प्रधानमंत्री तीन- चार महीने के बाद डेट देते थे कि फलां तारीख के बाद महंगाई कम हो जाएगी। फसल के बाद महंगाई कम हो जाएगी। बजट के बाद महंगाई कम हो जाएगी। दीवाली के बाद महंगाई कम हो जाएगी। जिस दिन मीडिया का मूड कर जाएगा, वे पुराने सब बाइट निकाल-निकालकर दिखाएंगे। अब तो एक साल से महंगाई के विषय में बोलना ही बंद कर दिया है।

चीन द्वारा भारतीय जमीन कब्जाने पर (13 नवंबर, 2013)

प्रधानमंत्री जी मैं आपसे पूछना चाहता हूं कि आए दिन चीन हमारी सेना पर आकर अड़ंगे जमाता है। सैंकड़ों किलोमीटर धरती चीन दबोचकर बैठा हुआ है। भूगोल बदल गया। जो हिस्सा हिन्दुस्तान के पास था, वह चीन के पास चला गया। वह आपके कार्यकाल में भी हुआ है और आपकी पार्टी के महारथियों के कार्यकाल में भी हुआ है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia