पश्चिम बंगालः बीजेपी अध्यक्ष की धमकी, ‘पुलिस वाले वर्दी पहनने के लायक नहीं, सत्ता में आने पर ठीक कर देंगे’

बीजेपी की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने खुले मंच से पुलिसवालों को वर्दी पहनने लायक ना बताते हुए सत्ता में आने पर नौकरी छीन लेने की धमकी दी है। दिलीप घोष इससे पहले भी लगातार विवादित और भड़काऊ बयान देते रहे हैं।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

अपने विवादित बयानों को लेकर आए दिन चर्चा में रहने वाले बीजेपी की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने एक बार फिर विवादति बयान दिया है। इस बार उन्होंने पुलिसवालों को लेकर विवादित बयान दिया है। सोमवार को बीरभूम जिले में बीजेपी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए दिलीप घोष ने पुलिसवालों को वर्दी नहीं पहनने लायक बताते हुए नौकरी छीन लेने की धमकी दी। इस दौरान घोष ने पुलिसवालों पर अपना काम सही से नहीं करने और सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस के इशारों पर चलने का आरोप लगाया।

बीरभूम जिले के रामपुरहाट में बीजेपी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए दिलीप घोष ने कहा, “तुम लोग (पुलिस) वर्दी पहनने के लायक नहीं हो। तुम हमारे कार्यकर्ताओं के खिलाफ झूठे मामले दर्ज कर रहे हो। एक दिन आएगा जब हम आपकी वर्दी उतारेंगे। हम सब कुछ लिख रहे हैं। एक बार जब हम यहां सत्ता में आएंगे तो हम उन सभी अधिकारियों का पता लगाएंगे। आप हमारा अपमान कर रहे हैं। यहां सामान्य धारणा है कि झारखंड के लोग आ रहे हैं और बम बना रहे हैं। क्या पुलिस उन्हें पकड़ नहीं सकती? इन घटनाओं में शामिल सभी लोग टीएमसी से हैं।"

इस दौरान घोष ने राज्य में बीजेपी की रथ यात्रा को रोकने के लिए राज्य सरकार पर निशाना भी साधा। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में कोई लोकतंत्र नहीं है। विपक्ष को पास सार्वजनिक सभाएं और रैलियां आयोजित करने की स्वतंत्रता नहीं है। वे बीजेपी की बढ़ती लोकप्रियता से डरे हुए हैं।

गौरतलब है कि दिलीप घोष इससे पहले भी लगातार विवादित और भड़काऊ बयान देते रहे हैं। इसी साल 6 अक्टूबर को इस्लामपुर में तृणमूल के नेताओं की निंदा करते हुए दिलीप घोष ने तमाम मर्यादाओं को लांघते हुए कहा था “सब बदला लिया जाएगा। सबकी चमड़ी उधेड़ दूंगा। शरीर पर नमक लगाऊंगा, पानी नहीं दूंगा, सड़क पर दौडाऊंगा और पूरा बदला लूंगा।”

इसके अलावा इसी महीने 18 दिसंबर को हिंदी पट्टी के तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत का जश्न मनाने को लेकर तृणमूल कांग्रेस के लोगों को 'हिजड़ा' करार दिया था। घोष ने कहा था कि टीएमसी के नेता इस तरह नाच रहे हैं जैसे किसी के बच्चा होने पर हिजड़ा नाचते हैं, क्योंकि वे खुद बच्चे नहीं पैदा कर सकते।

वहीं इसी साल मिदनापुर टाउन में एक रैली को संबोधित करते हुए दिलीप घोष ने राज्य की सत्ता पर काबिज टीएमसी की तुलना सांपों और कुत्तों से की थी। उन्होंने कहा था, “यहां बीजेपी को हमेशा रैली के लिए पुलिस द्वारा अनुमति नहीं दी जाती है। मुझे नहीं पता कि वे इतना क्यों डरे हुए हैं। आपको बता दूं कि जब कुत्ते किसी चीज से डरते हैं तो वो काटते हैं। ठीक उसी तरह टीएमसी भी काटती है जब वो बीजेपी से डर जाती है।”

गौरतलब है कि बीजेपी पश्चिम बंगाल में रथ यात्रा निकालने की तैयारी कर रही है और उसे कामयाब बनाने के लिए पार्टी नेता लगातार रैली और जनसभाएं कर रहे हैं। ऐसी ही सभाओं में दिलीप घोष टीएमसी पर लगातार आक्रमक रहे हैं। बीते दिनों इसी तरह के एक कार्यक्रम में टीएमसी के उन कार्यकर्ताओं का एनकांउटर कराने की धमकी दी थी जो बीजेपी कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट करते हैं। वहीं एक दूसरे कार्यक्रम में दिलीप घोष ने टीएमसी कार्यकर्ताओं को श्मशान पहुंचाने की कसम खाई थी।

लोकप्रिय