दिल्ली बॉर्डर से कब हटेंगे किसान? राकेश टिकैत ने बताया, उठ रहे सभी सवालों का दिया जवाब

राकेश टिकैत ने कहा कि अभी बातचीत करेंगे, यहां से कैसे जाएंगे। अभी बहुत से कानून सदन में हैं, उन्हें फिर ये लागू करेंगे। उसपर हम बातचीत करना चाहते हैं। आज संयुक्त किसान मोर्चा की मीटिंग है। जो भी उसमें निर्णय लिया जाएगा उसके बाद ही हम कोई बयान देंगे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा विवादित कृषि कानूनों को निरस्त करने की घोषणा के बाद यह सवाल पूछा जा रहा है कि दिल्ली की सीमाओं से किसान आखिर कब अपने घरों को लौटेंगे। कृषि कानूनों को रद्द किए जाने के बाद भी इस सवाल का किसान नेता राकेश टिकैत ने जवाब दिया। एक बार फिर राकेश टिकैत ने इस तरह की कई सवालों का जवाब दिया है।

किसान नेता राकेश टिकैत से जब यह पूछा गया कि आखिर किसान कब दिल्ली की सीमाओं से हटेंगे? इस पर उन्होंने कहा, “एमएसपी भी एक बड़ा सवाल है, उस पर भी कानून बन जाए, क्योंकि किसान जो फसल बेचता है, उसे वह कम कीमत पर बेचता है, जिससे बड़ा नुकसान होता है।”


राकेश टिकैत ने कहा, “अभी बातचीत करेंगे, यहां से कैसे जाएंगे। अभी बहुत से कानून सदन में हैं, उन्हें फिर ये लागू करेंगे। उसपर हम बातचीत करना चाहते हैं। आज संयुक्त किसान मोर्चा की मीटिंग है। जो भी उसमें निर्णय लिया जाएगा उसके बाद ही हम कोई बयान देंगे।”

राकेश टिकैत ने कहा कि पीएम इतना मीठा भी नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि 750 किसान शहीद हुए, 10 हजार केस दर्ज हैं। बिना बातचीत के कैसे चले जाएं। पीएम मोदी ने इतनी मीठी भाषा का इस्तेमाल किया है कि शहद को भी फेल कर दिया। उन्होंने कहा कि हलवाई को तो ततैया भी नहीं काटता। वह ऐसे ही मक्खियों को उड़ाता रहता है।

उन्होंने ने आगे कहा कि जो मीठी भाषा का इस्तेमाल हो रहा है, उसको बातचीत में डाल दो। राज्यों में विधानसभा चुनाव करीब देख प्रधानमंत्री ने कानून वापसी का ऐलान किया? इस सवाल पर उन्होंने कहा कि हमें क्या पता क्या वजह है। वापस लेने की वजह में हम नहीं जानना चाहते। हम चाहते हैं कि हमारा काम हो जाए।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 20 Nov 2021, 9:03 AM