कोरोना वैक्सीन पर चौंकाने वाली खबर: भारत में बनी कोविशील्ड की नकली वैक्सीन की सप्लाई, WHO ने जारी की चेतावनी

कहीं आपने कोरोना संकट के दौर में नकली कोविशील्ड वैक्सीन तो नहीं लगवा ली। इस बारे में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने आगाह किया है। उसका कहना है कि भारत और अफ्रीका में सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा सप्लाई की गई कोविशील्ड वैक्सीन की नकली डोज पाई गई हैं।

Getty Images
Getty Images
user

आईएएनएस

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा कि उसने भारत की प्राथमिक कोविड वैक्सीन, कोविशील्ड के नकली वर्जन की पहचान की है। बीबीसी की रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। डब्ल्यूएचओ के एक बयान में कहा गया है कि जुलाई और अगस्त के बीच भारत और अफ्रीका में अधिकारियों ने खुराक को जब्त कर लिया है। इसने यह भी कहा कि वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने पुष्टि की है कि खुराक नकली थी।

डब्ल्यूएचओ ने चेतावनी दी है कि नकली टीके वैश्विक सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए एक गंभीर खतरा पैदा करते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने फौरन इन डोज को हटाने का आह्वान किया है।

गौरतलब है कि कोविशील्ड एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन का भारतीय निर्मित वर्जन है और अब तक 48.6 करोड़ से अधिक खुराक के साथ भारत में सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली वैक्सीन है।

बता दें कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने कोविशील्ड को एशिया, अफ्रीका और दक्षिण अमेरिका के देशों को लाखों कोविशील्ड डोज की आपूर्ति की थी। विभिन्न सरकारों और गरीब देशों के लिए वैश्विक कोवैक्स योजना के साथ किए गए सौदों के हिस्से के रूप में यह आपूर्ति की गई थी।

भारत, जो दुनिया का दूसरा सबसे बुरी तरह प्रभावित देश है, का लक्ष्य इस साल के अंत तक अपनी पूरी आबादी का टीकाकरण करना है। जनवरी में भारत में वैक्सीनेशन अभियान की शुरुआत के बाद से लगभग 13 प्रतिशत आबादी को पूरी तरह से टीका लगाया जा चुका है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia