क्या फिर कोरोना से चारधाम यात्रा पर लगेगा ग्रहण? केदारनाथ-बदरीनाथ यात्रा रूट पर कोविड गाइडलाइन अनिवार्य

बदरीनाथ और केदारनाथ के बाद नवरात्रि के मौके पर गंगोत्री और यमुनोत्री धामों के कपाट खुलने की तारीख का ऐलान हो गया है। तीर्थ यात्रियों के लिए दोनों धामों के कपाट आगामी 22 अप्रैल 2023 को खुलेंगे।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

देश-विदेश से चारधाम यात्रा 2023 पर जाने वाले तीर्थ यात्रियों के लिए बड़ा अपडेट आया है। बदरीनाथ-केदारनाथ सहित चार धाम के लिए पंजीकरण करा चुके तीर्थ यात्रियों ने अगर यह काम नहीं किया तो उन्हें चारों धामों के दर्शन करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। दरअसल देशभर में कोरोना के बढ़ते केसों को ध्यान में रखते हुए उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी सरकार ने संक्रमण रोकने के लिए सख्त निर्देश जारी किए हैं।

यात्रा रूट पर कोविड गाइडलाइन का पालन अनिवार्य

इसके तहत चारधाम पर जाने वाले तीर्थ यात्रियों को सख्ती से कोविड गाइडलाइन का पालन करना अनिवार्य होगा। कोविड गाइडलाइन्स का पालन नहीं करने पर तीर्थ यात्रियों के खिलाफ सख्त एक्शन भी होगा। कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने लिए सरकार की आरे से कोविड जांच का दायरा बढ़ाने के भी सख्त निर्देश दिए गए हैं।

स्वास्थ्य मंत्री डॉ धन सिंह रावत ने कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए विधानसभा में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होंने अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए कि चार धाम यात्रा-2023 को देखते हुए कोविड गाइडलाइन को सख्ती से यात्रा रूट पर लागू कराया जाए। उन्होंने कहा कि चारधाम यात्रा पर आने वाले यात्रियों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं देने के लिए अधिकारियों को सभी व्यवस्थाएं दुरूस्त करने के निर्देश दिए गए हैं।


प्रदेश भर में जांच और वैक्सिनेशन बढ़ाने के निर्देश

स्वास्थ्य मंत्री ने उत्तराखंड में कोविड जांच बढ़ाने के लिए भी निर्देश दिए हैं। उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रावत ने प्रदेशभर में कोरोना वैक्सीनेशन बढाने के लिए स्वास्थ्य अधिकारियों को कहा है। स्वास्थ्य महानिदेशक को चार धाम यात्रा मार्गों पर पड़ने वाले सभी चिकित्सा इकाईयों और अस्थाई मेडिकल रिलीव प्वाइंटों का स्थलीय निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लेने के निर्देश दिये गए हैं।

इसके अलावा उन्हें चार धाम यात्रा में विशेषज्ञ चिकित्सकों, चिकित्सकों एवं पैरामेडिकल स्टाफ की तैनाती 15 अप्रैल से पहले सुनिश्चित करने के निर्देश दिये गए हैं। डॉ. रावत ने कहा कि कोरोना संक्रमण को बढ़ने से रोकने के लिए रेलवे स्टेशन और अन्य स्थानों पर टीकाकरण के लिए कैम्प आयोजित किए जांएगे।

देश के साथ राज्य में लगातार बढ़ रहे केस

उत्तराखंड में कोरोना केसों में लगातार इजाफा हो रहा है। चिंता की बात है कि सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमण देहरादून में बढ़ा है। संक्रमण दर 10 फीसदी से ऊपर पहुंच गया है। अब मरीजों की मौत भी होने लगी है। दून अस्पताल में पांच मरीज अभी आईसीयू में भर्ती है। देहरादून में ही अकेले 21 कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। देहरादून जिले में 01 जनवरी 2023 से अब तक 165 मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है।

देश में बढ़ते कोरोना केसों के बाद सख्ती

देश के कई राज्यों में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सूबे में भी कोविड जांच और वैक्सीनेशन का दायरा बढ़ाया जाएगा। इसके लिए विभागीय अधिकारियों को निर्देश दे दिये गये हैं। चारधाम यात्रा को देखते हुए उत्तराखंड प्रदेश में भारत सरकार और राज्य सरकार द्वारा समय-समय पर जारी कोविड गाइडलाइन को सख्ती से लागू किया जाएगा। राज्य में कोविड जांच व वैक्सीनेशन अभियान में तेजी लाई जाएगी।


चारोंधामों के कपाट खुलने की तारीख आई

बदरीनाथ-केदारनाथ के बाद नवरात्रि के मौके पर गंगोत्री और यमुनोत्री धामों के कपाट खुलने की तारीख का ऐलान हो गया है। तीर्थ यात्रियों के लिए दोनों धामों के कपाट आगामी 22 अप्रैल 2023 को खुलेंगे। चैत्र प्रतिपदा और नवरात्र के शुभ अवसर पर विश्व प्रसिद्ध गंगोत्री धाम के कपाट खुलने का शुभ मुहूर्त निकाला गया था।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;