कर्नाटक के बाद तेलंगाना में बदलाव की हवा, पूर्व सांसद, पूर्व मंत्री समेत BRS के कई नेता कांग्रेस से जुड़े

पूर्व सांसद श्रीनिवास रेड्डी ने कहा कि केवल कांग्रेस ही भारत राष्ट्र समिति को तेलंगाना में फिर सत्ता में आने से रोक सकती है। वहीं पूर्व मंत्री कृष्णा राव ने कहा कि वे बीआरएस के भ्रष्टाचार, पारिवारिक शासन और फासीवादी दृष्टिकोण के कारण पार्टी से अलग हुए हैं।

तेलंगाना के पूर्व सांसद, पूर्व मंत्री समेत BRS के कई नेता कांग्रेस से जुड़े
तेलंगाना के पूर्व सांसद, पूर्व मंत्री समेत BRS के कई नेता कांग्रेस से जुड़े
user

नवजीवन डेस्क

तेलंगाना में विधानसभा चुनाव से पहले आज पूर्व मंत्री जुपल्ली कृष्णास राव और पूर्व सांसद पोंगुलेटी श्रीनिवास रेड्डी समेत बीआरएस के कई नेताओं ने दिल्ली में मल्लिकार्जुन खड़गे और राहुल गांधी से मुलाकात कर कांग्रेस में शामिल होने की घोषणा की। दोनों नेताओं को पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए अप्रैल में बीआरएस से निलंबित कर दिया गया था। दोनों नेता अपने समर्थकों और कुछ अन्य नेताओं के साथ 2 जुलाई को खम्मम जिले में आयोजित सार्वजनिक सभा में कांग्रेस में शामिल होंगे। सभा में राहुल गांधी के शामिल होने की संभावना है।

कांग्रेस मुख्यालय में आयोजित बैठक में राज्य कांग्रेस प्रमुख रेवंत रेड्डी, सांसद उत्तम कुमार रेड्डी और कोमाटिरेडी वेंकट रेड्डी, विधायक सीताक्का और अन्य नेता उपस्थित थे। बैठक में संयुक्त खम्मम, महबूबनगर और निज़ामाबाद जिलों के 30 से अधिक कांग्रेस नेता भी शामिल हुए। बैठक के बाद श्रीनिवास रेड्डी ने कहा कि केवल कांग्रेस ही भारत राष्ट्र समिति को तेलंगाना में फिर से सत्ता में आने से रोक सकती है। वहीं कृष्णा राव ने कहा कि वे बीआरएस के भ्रष्टाचार, पारिवारिक शासन और फासीवादी दृष्टिकोण के कारण पार्टी से बाहर आए हैं।

इन नेताओं के पार्टी में शामिल होने की घोषणा के बाद कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि एक बदलाव की हवा पूरे देश में चलती महसूस हो रही है। ये बदलाव की हवा कर्नाटक से नहीं शुरू हुई, बल्कि ये हवा ‘भारत जोड़ो यात्रा’ से शुरू हुई और धीरे-धीरे एक तूफान के रूप में दिखाई दे रही है और जब तूफान आता है, तो बहुत कुछ बदल जाता है। कर्नाटक के बाद अब आने वाले 6 महीनों में 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव हैं। तेलंगाना बहुत महत्वपूर्ण राज्यफ है। आज तेलंगाना के बहुत महत्वूपूर्ण नेता कांग्रेस के साथ जुड़ रहे हैं। अभी इन सबकी कांग्रेस अध्य्क्ष मल्लिकार्जुन खड़गे साहब से, हमारे नेता राहुल गांधी से, केसी वेणुगोपाल से, तेलंगाना प्रभारी माणिकराव ठाकरे से मुलाकात हुई और लंबी वार्ता हुई।


तेलंगाना कांग्रेस प्रमुख रेवंत रेड्डी ने कहा कि आज तेलंगाना के वरिष्ठ नेता पोंगुलेटी श्रीनिवास रेड्डी, पूर्व मंत्री जुपल्ली कृष्णा राव, विधायक गुरुनाथ रेड्डी, नरसा रेड्डी, पूर्व विधायक और कई नेताओं ने राहुल गांधी और मल्लिकार्जुन खड़गे जी से मिलने के बाद कांग्रेस ज्वाइन करने का वादा किया है। आगे हम लोग तेलंगाना में टीआरएस को हराने के लिए जिस तरीके से काम करना है, हम सब लोग मिलकर काम करेंगे और बीजेपी और टीआरएस ने साथ मिलकर तेलंगाना की 4 करोड़ जनता को कैसे धोखा दिया ये सब हमें जनता को दिखाना है।

रेवंत रेड्डी ने कहा कि हम सब लोग इन नेताओं का कांग्रेस में स्वागत करते हैं। 2 जुलाई को खम्मम में एक बड़ा जलसा होगा, वहीं से तेलंगाना के अगले चुनाव की रणनीति आप लोगों को बताएंगे और दूसरी सभा महबूब नगर में जुलाई 14 और 16 जुलाई को होगी। रेवंत रेड्डी ने कहा कि बीजेपी और बीआरएस दोनों एक ही पार्टी है, इसका गठबंधन फेविकोल गठबंधन है। पिछले 9 साल से इन्होंने साथ काम किया, आगे चुनाव में भी ये दोनों मिलकर चुनाव लड़ने वाले हैं। इसलिए कांग्रेस पार्टी ने पूरी तैयारी कर ली है दोनों को हराने के लिए।

इत रेवंत रेड्डी ने कहा कि ये हमारे खुद के फायदे या पॉजिशन के लिए लड़ाई नहीं है। तेलंगाना की 4 करोड़ जनता ने जो उम्मीद की थी। उन उम्मीदों को देखकर, शहीद हुए बच्चों को देखकर सोनिया गांधी ने तेलंगाना दिया था, उस उम्मीद को टीआरएस ने तोड़ दिया है, इसीलिए उन उम्मीदों को पूरा करने के लिए कांग्रेस कोशिश करेगी। उन्होंने कहा कि 2 जुलाई को खम्म में होने वाली जनसभा में राहुल गांधी भी आ रहे हैं।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;