बुल्ली बाई एप की मास्टरमाइंड निकली उत्तराखंड की महिला, मुंबई पुलिस ने किया गिरफ्तार

शर्मनाक कांड की मुख्य आरोपी महिला ऐप से जुड़े तीन खाते चला रही थी, जबकि उसका दोस्त खालसा सुप्रीमिस्ट के नाम से अकाउंट चला रहा था। दोनों ने एप पर मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ न सिर्फ अपमानजनक बातें लिखीं, बल्कि उनकी बोली लगाने जैसा घिनौना काम भी किया।

फोटोः ANI
फोटोः ANI
user

नवजीवन डेस्क

सोशल मीडिया पर जोरदार तरीके से अपनी बात रखने वाली चर्चित मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरें अपलोड कर उनकी बोली लगाने वाले एप बुल्ली बाई की मुख्य साजिशकर्ता उत्तराखंड की एक महिला निकली है। उसे मुंबई पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। मुंबई पुलिस ने एक दिन पहले ही शातिर महिला के साथी को बेंगलुरु से गिरफ्तार किया था, जो इंजीनियरिंग का 21 वर्षीय छात्र है।

बुल्ली बाई एप के तार उत्तराखंड से जुड़ने के बाद आज उत्तराखंड से शातिर महिला को गिरफ्तार किया गया है। मुंबई पुलिस महिला को अपने साथ ले गई है। अभी महिला की पहचान उजागर नहीं की गई है। उत्तराखंड पुलिस के प्रवक्ता सेंथिल अबुदई कुष्णराज ने बताया कि उक्त महिला को ऊधमसिंह नगर से गिरफ्तार किया गया है। अधिक जानकारी के लिए मुंबई पुलिस से संपर्क किया जा रहा है।


बताया जा रहा है कि उत्तराखंड की रहने वाली मुख्य आरोपी महिला और बेंगलुरू से गिरफ्तार छात्र एक दूसरे को पहले से जानते हैं। दोनों फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर दोस्त हैं। इसलिए, आसानी से दोनों के लिंक होने की पुष्टि भी हो गई। शर्मनाक कांड की मुख्य आरोपी महिला ऐप से जुड़े तीन खाते चला रही थी, जबकि उसका दोस्त खालसा सुप्रीमिस्ट के नाम से अकाउंट चला रहा था। दोनों ने एप पर मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ न सिर्फ अपमानजनक बातें लिखीं, बल्कि उनकी बोली लगाने जैसा घिनौना काम भी किया।

गौरतलब है कि सोशमल मीडिया पर बुल्ली बाई नामक एप कुछ दिनों से सुर्खियों में है। इस पर उन मुस्लिम महिलाओं को अपमानित किया जा रहा है, जो सोशल मीडिया पर सक्रिय हैं और सरकार और बीजेपी के खिलाफ बेबाकी से अपनी राय रखती हैं। बुल्ली बाई एप खोलने पर किसी चर्चित मुस्लिम महिला की तस्वीर सामने आती है, जिसे बुल्ली डील ऑफ द डे के नाम से साझा किया जाता है।


बुल्लीबाई ऐप पर उन मुस्लिम महिलाओं को निशाना बनाया गया है, जो ट्विटर और फेसबुक पर बेबाकी से अपनी राय रखती हैं। पीड़िताओं में मीडिया समेत विभिन्न क्षेत्रों में काम करने वाली महिलाएं शामिल हैं। इस ऐप की करतूत पर कई लोगों ने सोशल मीडिया पर नाराजगी जताई है। इस मामले में एक महिला पत्रकार की शिकायत पर दिल्ली पुलिस ने केस भी दर्ज किया था, परंतु आज तक आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia