जान जोखिम में डाल घर की राह पकड़ रहे मजदूर, लेकिन चेहरे पर शारीरिक थकान नहीं, घर जाने की झलक रही आशा

दिल्ली की सड़कों पर प्रवासियों की भीड़ उमड़ने का सिलसिला जारी है। सुबह से ही कानपुर रोड, ककोरी के एक्सप्रवे, फैजाबाद रोड पर मजदूरों की लम्बी-लम्बी टुकडियां देखने को मिल रही है। इस दौरान प्रवासियों के चेहरे में शारीरिक थकान नहीं, बल्कि घर की दूरी कम करने की आशा झलक रही थी।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

आईएएनएस

पैदल, ट्रक, लोडर, और ऑटो के सहारे जिंदगी जोखिम में डालकर अपनी मंजिल और अपने गांव पर पहुंचने की जद्दोजहद में प्रवासी मजदूर लगे हैं। दिल्ली की सड़कों पर प्रवासियों की भीड़ उमड़ने का सिलसिला जारी है। सुबह से ही कानपुर रोड, ककोरी के एक्सप्रवे, फैजाबाद रोड पर मजदूरों की लम्बी-लम्बी टुकडियां देखने को मिल रही है। इस दौरान प्रवासियों के चेहरे में शारीरिक थकान नहीं, बल्कि घर की दूरी कम करने की आशा झलक रही थी।

फोटो: IANS
फोटो: IANS

बाराबंकी रोड पर मिले हरदोई के रहने वाले शिव सिंह महाराष्ट्र के मुंबई में मजदूरी करके अपना जीवन गुजार रहे थे कि अचनाक कोरोना के शोर ने उनके काम को अपने चपेट में ले लिया। वह पैदल ही अपने परिवार के साथ गांव को निकल पड़े। उनके साथ उनकी पत्नी और दो बच्चों के साथ निकल लिए है। रास्तें में अगर कोई दयालू मिल गया तो कुछ पेट भर जाता है नहीं तो पानी और पारले बिस्कुट पर जिंदगी चल रही है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS

कोरोना में हुई पूर्णबंदी के कारण हुई पैसे की समस्या महराजगंज के दिनेश प्रजापति, रामकुमार प्रदुम्न, भोलू के चेहरे पर साफ देखने को मिली। यह सब पेन्टर का काम करते थे। महाबंदी में सिर्फ खाने के पैसे मिलते थे। लेकिन जिंदगी जाने का डर बना रहता था। इसी कारण पैदल ही वहां से चल दिये। रास्तें जो भी साधन मिला उसने हमें लखनऊ छोड़ दिया है। दिनेश ने कहा, “हमारे साथ 16 लोगों की टीम है। सब महराजगंज जाएंगे। वहां पर अपनी जांच कराकर अगर क्वांरेंटीन करने को कहंगे तो हो जांएगे। वरना घर पर ही एकांतवास पकड़ लेंगे। स्थिति ठीक होंने पर वापस जाने के बारे में बाद में सोंचेगे।”

फोटो: IANS
फोटो: IANS

बिहार के सीतामढ़ी के उमेश आटो से लखनऊ तक पहुंचे। पैसे के अभाव में मकान मालिक परेशान करने लगा उन्होंने सीधे अपने घर की राह पकड़ ली। दो ऑटो से 6 लोग आए हैं। बोरवली में रहते थे। काम धंधा भी बंद था।

इसे भी पढ़ें: प्रियंका का CM योगी को पत्र, लिखा- होम लोन पर शून्य हो ब्याज दर, किसानों का ट्यूबवेल और घर के बिजली बिल हों माफ

प्रवासी मजदूरों के साथ बर्ताव से उद्योगों पर संकट, ग्रामीण अर्थव्यवस्था ही अब सहारा, इसे करना होगा मजबू

लोकप्रिय
next