कोरोना को लेकर चिंताजनक खबर, केरल और महाराष्ट्र में मिले नए स्ट्रेन, विशेषज्ञों ने दी चेतावनी

कोरोना के नए स्ट्रेन को लेकर पीजीआईएमईआर चंडीगढ़ के डायरेक्टर ने चेतावनी दी है कि देश में यह स्ट्रेन और अधिक घातक हो सकता है। उन्होंने कहा कि भारत में पाया गया नया स्ट्रेन अन्य देशों में मिले स्ट्रेन से ज्यादा घातक है। इसे रोकने के हर संभव उपाय करने चाहिए।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

देश में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के खिलाफ जारी जंग के बीच कई राज्यों में बढ़ते कोरोना मामलों और महाराष्ट्र और केरल में मिले इसके नए स्ट्रेन ने चिंता बढ़ा दी है। कोरोना का नया स्ट्रेन भारत में भी पैर पसारता नजर आ रहा है। भारत में अब तक कोरोना के दो नए स्ट्रेन का पता चला है, जिसे लेकर विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि देश में कोरोना का नया स्ट्रेन ज्यादा संक्रामक हो सकता है।

कोरोना के नए स्ट्रेन को लेकर पीजीआईएमईआर चंडीगढ़ के डायरेक्टर ने आशंका जताई है कि देश में यह स्ट्रेन और अधिक घातक हो सकता है। उन्होंने कहा कि भारत में पाया गया कोरोना का नया स्ट्रेन अन्य देशों में मिले स्ट्रेन से बहुत ज्यादा घातक है। उन्होंने कहा कि ये नया स्ट्रेन ज्यादा संक्रामक हो सकता है, ऐसे में कोरोना के नए मामलों में बढ़ोतरी को रोकने के लिए हर संभव सावधानी बरतने की जरूरत है।

गहराती चिंता के बीच हालात से निपटने के लिए केंद्र सरकार ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को हरसंभव कदम उठाने के निर्देश दिए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव ने कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर महाराष्ट्र, केरल, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, गुजरात, पंजाब और जम्मू-कश्मीर को पत्र लिखा है, जिसमें वायरस के प्रसार को रोकने के लिए जांच से लेकर तमाम संभव कदम उठाने के निर्देश दिए हैं।

इसके अलावा कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र ने महाराष्ट्र, केरल, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, गुजरात, पंजाब, कर्नाटक, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और जम्मू-कश्मीर के लिए उच्च स्तरीय टीमों का गठन किया है, जो कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के उपायों में मदद करेंगीं। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि ये टीमें संबंधित राज्यों और केंद्र के साथ मिलकर काम करेंगी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia