अयोध्या में आज होने वाली कुश्ती संघ की बैठक रद्द, खेल मंत्रालय ने लगाई थी रोक, क्या थी बृजभूषण की तैयारी?

खेल मंत्रालय ने शनिवार को कुश्ती संघ के असिस्टेंट सेक्रेटरी विनोद तोमर को अनुशासहीनता के आरोप में सस्पेंड कर दिया था। साथ ही पहलवानों के आरोपों की जांच पूरी होने तक कुश्ती की गतिविधियों पर तत्काल रोक लगा दी गई थी।

फोटो: सोशस मीडिया
फोटो: सोशस मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश के अयोध्या में आज होने वाली भारतीय कुश्ती संघ की बैठक रद्द हो गई है। ऐसी संभावना जताई जा रही थी कि कुश्ती संघ में जारी संग्राम के बीच आज संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह कोई फैसला ले सकते थे। बताया जा रहा है कि इस बैठक में बृजभूषण अपना पक्ष कार्यकारिणी के सदस्यों के सामने रखने वाले थे। WFI चीफ बृजभूषण ने रविवार को उत्तर प्रदेश के अयोध्या में कुश्ती संघ की कार्यकारिणी बैठक बुलाई थी। कहा जा रहा है कि बैठक रद्द करने का फैसला खेल मंत्रालय की रोक के चलते लिया गया है। ऐसे में अब 4 हफ्ते तक यह बैठक नहीं हो पाएगी।

इससे पहले खेल मंत्रालय ने शनिवार को कुश्ती संघ के असिस्टेंट सेक्रेटरी विनोद तोमर को अनुशासहीनता के आरोप में सस्पेंड कर दिया था। साथ ही पहलवानों के आरोपों की जांच पूरी होने तक कुश्ती की गतिविधियों पर तत्काल रोक लगा दी गई थी। खेल मंत्रालय की इसी रोक के चलते आज होने वाली बैठक को रद्द करना पड़ा है। इससे पहले खेल मंत्री ने इस मामले पर एक निगरानी कमेटी का गठन करने का फैसला लिया था। यह कमेटी 4 हफ्ते में अपनी जांच पूरी कर रिपोट सौंपेगी।


क्या है पूरा मामला?

18 जनवरी को पहलवान विनेश फोगाट, बजरंग पूनिया, साक्षी मलिक समेत करीब 30 पहलवान दिल्ली के जंतर-मंतर पर भारतीय कुश्ती संघ के खिलाफ धरने पर बैठ गए थे। बाद में इस प्रदर्शन में 200 से ज्यादा खिलाड़ी शामिल हो गए थे। उन्होंने कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह और कुछ कोच पर ओलिंपिक विजेता खिलाड़ियों ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया। पहलवानों ने WFI अध्यक्ष से इस्तीफा देने की मांग की। 

पहलवान विनेश फोगाट ने कहा था कि हमारे आरोप सच्चे हैं। हमें मजबूर न किया जाए सबसे सामने आने के लिए। हम अपने सम्मान के लिए लड़ रहे हैं। हम पूरे देश को यह नहीं बताना चाहते कि देश की बेटियों के साथ क्या हुआ है। जिस दिन सारी लड़कियां मीडिया को बताएंगी कि हमारे साथ क्या हुआ, वह कुश्ती का दुर्भाग्य होगा। उन्होंने कहा था कि अगर मांग नहीं मानी गई तो इन लड़कियों के साथ एफआईआर कराएंगे और WFI अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह को जेल भिजवाएंगे।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;