येचुरी ने BJP के खिलाफ लोकतांत्रिक ताकतों से मोर्चा बनाने का किया आह्वान, देश बचाने के लिए आगे आने का किया आग्रह

सीताराम येचुरी ने सीपीएम की राज्य स्तरीय बैठक में कश्मीर में कहा कि बीजेपी देश भर में स्थिति को सांप्रदायिक बनाने की कोशिश कर रही है, ये केवल कश्मीरी पंडित नहीं थे जो घाटी में पीड़ित थे, बल्कि मुस्लिम, सिख और अन्य भी आतंकी आघात के शिकार हुए थे।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्‍सवादी) के महासचिव सीताराम येचुरी ने बीजेपी को अलग-थलग करने और हराने के लिए धर्मनिरपेक्ष ताकतों का सबसे व्यापक संभव मोर्चा बनाने का आह्वान किया है। सीताराम येचुरी ने सभी लोकतांत्रिक ताकतों से देश को बचाने के लिए बीजेपी के खिलाफ आगे आने का आग्रह किया है।

सीताराम येचुरी ने सीपीआई (एम) की राज्य स्तरीय बैठक में कश्मीर में कहा कि बीजेपी देश भर में स्थिति को सांप्रदायिक बनाने की कोशिश कर रही है, ये केवल कश्मीरी पंडित नहीं थे जो घाटी में पीड़ित थे, बल्कि मुस्लिम, सिख और अन्य भी आतंकी आघात के शिकार हुए थे।

येचुरी ने कहा कि 'द कश्मीर फाइल्स' नामक एक फिल्म कश्मीर की स्थिति को खराब करने के उद्देश्य से रिलीज की गई है। उन्होंने कहा कि मुसलमानों, सिखों और कश्मीरी पंडितों सहित किसी भी धर्म या संप्रदाय के लोग कश्मीर में समान रूप से पीड़ित हुए हैं। फिल्म में तत्कालीन राज्यपाल की भूमिका को क्यों नहीं दिखाया गया, उनकी भूमिका को भी उजागर किया जाना चाहिए था।


उन्होंने आगे कहा कि पूरे कश्मीर को नुकसान हुआ है, यहां तक कि राज्य में नेताओं पर भी हमले हुए हैं, हर कोई समान रूप से आतंकवाद से लड़ रहा है। उन्होंने अनुच्छेद 370 निरस्त करने को चुनौती देने वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में जल्द सुनवाई की मांग की। इसके साथ ही उन्होंने 1990 के पंडितों प्रवास की सच्चाई का खुलासा करने के लिए एक सत्य और सुलह आयोग के गठन की भी मांग की।

सीताराम येचुरी ने कहा कि देश भर में हालात बद से बदतर हो गए हैं, लोग बुरी तरह जूझ रहे हैं, बेरोजगारी-गरीबी अब तक के सबसे ऊंचे स्तर पर है और हालात ये हैं कि युवाओं ने अब नौकरी की तलाश बंद कर दी है। उन्होंने कहा कि भारत की स्थिति तेजी से खराब हो रही है, क्योंकि संवैधानिक स्तंभों को विचलित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यह देश को बचाने और लोगों के दिन-प्रतिदिन के मुद्दों को संबोधित करने का समय है।


येचुरी ने कहा कि उनकी पार्टी 'द कश्मीर फाइल्स' एक फिल्म को लेकर एक आयोग के गठन की मांग कर रही है, ताकि जमीनी हकीकत की जांच की जा सके कि घाटी में किसे नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि सीपीएम ने फैसला किया है कि अन्य प्रमुख पार्टियों के साथ मिलकर वह हर समुदायों के लोगों बीच एकता को मजबूत करेगी, क्योंकि विभिन्न समुदायों के बीच दरार पैदा करने के प्रयास जारी हैं।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;