अयोध्या के रौनाही में बाबरी मस्जिद के लिए योगी सरकार ने दी 5 एकड़ जमीन, जानें राम मंदिर से है कितना दूर

केंद्र के राम मंदिर ट्रस्‍ट को मंजूरी देने के बाद अब योगी सरकार ने अयोध्‍या से करीब 20 क‍िमी दूर रौनाही में सुन्‍नी वक्‍फ बोर्ड को 5 एकड़ जमीन देने का ऐलान किया है। योगी आदित्यनाथ कैबिनेट ने बुधवार को इस फैसले पर अपनी मुहर लगा दी है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

राम मंदिर ट्रस्ट के ऐलान के बाद अब योगी कैबिनेट ने सुन्नी वक्फ बोर्ड को जमीन देने का प्रस्ताव पास कर दिया है। लोक भवन में उत्तर प्रदेश कैबिनेट की बैठक में इस फैसले को हरी झंडी दी गई। पीटीआई की खबर के मुताबिक, अयोध्या मुख्यालय से करीब 20 किलोमीटर दूर ग्राम धन्नीपुर, तहसील सोहावल रौनाही थाने के 200 मीटर के पीछे पांच एकड़ जमीन सुन्नी वक्फ बोर्ड को देने के लिए मंत्रिमंडल ने मंजूरी दी। रौनाही अयोध्‍या के मुख्‍य मंदिर क्षेत्र के दायरे में नहीं आता है और मुस्लिम बहुल क्षेत्र है।

योगी सरकार के मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने जानकारी देते हुए कहा कि आज यूपी कैबिनेट की बैठक में 5 एकड़ जमीन का प्रस्ताव पास हो गया है। हमने 3 विकल्प केंद्र को भेजे थे, जिसमें से एक पर सहमति बन गई है। यह जमीन लखनऊ अयोध्या हाई-वे पर अयोध्या से करीब 20 किलोमीटर पहले है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर राम मंदिर-बाबरी मस्जिद केस में ये जमीन दी जा रही है।

कैबिनेट मंत्री और प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा ने मीडिया को बताया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद मामले में सुन्‍नी वक्‍फ बोर्ड को यह जमीन 5 एकड़ जमीन मस्जिद बनाने के लिए दी जा रही है। अब बोर्ड के ऊपर है कि वह इस जमीन का क्‍या करता है।

इससे पहले पीएम मोदी ने लोकसभा में राम मंदिर के निर्माण के लिए ट्रस्ट के गठन का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि ट्रस्ट का नाम ‘श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट’ होगा। यह ट्रस्ट श्रीराम मंदिर के निर्माण और उससे संबंधित फैसले लेने के लिए होगा। उन्होंने सदन में बताया कि सुन्नी वक्फ बोर्ड को 5 एकड़ जमीन देने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने अपनी सहमित प्रदान कर दी है। पीएम मोदी के इस ऐलान के बाद बीजेपी सांसदों ने लोकसभा में जय श्रीराम के नारे लगाए।

लोकप्रिय
next