यूपी में मोदी रैली के लिए 2000 बसें जुटाने का आदेश, कांग्रेस ने पूछा- प्रवासी मजदूरों के लिए कहां थी बसें!

उत्तर प्रदेश में 16 नवंबर को होने वाले पीएम मोदी के कार्यक्रम के लिए 2000 बसें जुटाने का आदेश दिया गया है। 'सरकारी मशीनरी के इस दुरुपयोग' कांग्रेस ने पूछा है कि आखिर प्रवासियों के लिए बसों का इंतजाम करने के वक्त कहां थी सरकार?

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

विश्वदीपक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 16 नवंबर को पूर्वांचल एक्सप्रेस वे का उद्घाटन करने वाले हैं। इस आयोजन को सफल बनाने के लिए सरकारी आदेश आया है कि इसके लिए 2000 बसों का इंतजाम किया जाए जो लोगों को मोदी के कार्यक्रम में शामिल होने के लिए लेकर जाएंगी।

इस बाबत उत्तर प्रदेश सड़क परिवहन निगम के प्रबंध निदेशक को सुलतानपुर जिलाधिकारी ने पत्र भेजा है। पत्र में कहा गया है कि इस कार्यक्रम में 2000 बसों का इंतजाम किया जाना है जो लोगों को कार्यक्रम स्थल पर लेक जाएंगी। इनमें से 70 फीसदी बसों का इंतजाम सुल्तानुपर से होगा और बाकी 30 फीसदी बसें पड़ोसी जिलों अंबेडकर नगर और अयोध्या से आएंगी।

सुलतानपुर जिलाधिकारी ने 6 नवंबर, 2021 को लिखे इस पत्र में कहा है कि इन बसों का खर्च उत्तर प्रदेश एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीईआईडीए) उठाएगा।

यूपी में मोदी रैली के लिए 2000 बसें जुटाने का आदेश, कांग्रेस ने पूछा- प्रवासी मजदूरों के लिए कहां थी बसें!

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी 16 नवंबर को पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का उद्घाटन करेंगे। मुख्य कार्यक्रम सुलतानपुर में होगा। इस एक्सप्रेसवे की लंबाई 340.824 किलोमीटर है। इस सिलसिले में सुलतानपुर के जिलाधिकारी ने नेशनल हेरल्ड से बातचीत में स्वीकारा किया कि ऐसा पत्र लिखा है, जिसमें 2000 बसों की व्यवस्था करने की बात है। हालांकि उन्होंने कहा कि, “इसका राजनीतिकरण नहीं होना चाहिए क्योंकि कार्यक्रम में बहुत से लोग शामिल हैं। हमें कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए बसों का इंतजाम करने को कहा गया है।”

विपक्ष ने अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से ऐन पहले पूर्वांचल एक्सप्रेस वे के उद्घाटन को राजनीतिक स्टंट करार दिया है। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि योगी सरकार भीड़ जुटाने के लिए सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग कर रही है ताकि मोदी खुश हो सकें। उन्होंने कहा, “यह अनैतिक और जनविरोधी है। योगी सरकार उस समय क्या कर रही थी जब हजारों प्रवासी मजदूर पैदल अपने घरों को जा रहे थे। उस समय कांग्रेस ने मजदूरों के लिए बसों का इंतजाम किया था।”


उत्तर प्रदेश में कांग्रेस अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के अध्यक्ष शाहनवाज आलम ने कहा कि, “जिलाधिकारियों को अधिकारिक पत्र भेजकर मोदी के कार्यक्रम के लिए भीड़ जुटाने को कहा जा रहा है, इससे योगी सरकार की मानसिकता जाहिर होती है।” उन्होंने कहा कि, “योगी सरकार के लिए मजदूर, गरीब लोग, प्रवासी और अल्पसंख्यक कोई अहमियत नहीं रखते। उन्हें तो सिर्फ मैदान भरने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।”

पूर्वांचल एक्सप्रेस वे लनऊ से शुरु होकर पूर्वी उत्तर प्रदेश में गाजीपुर तक जाता है। ये एक्स्प्रेस वे वाराणसी, अयोध्या, गोरखपुर और इलाहाबाद (अब प्रयागराज) समेत नौ जिलों से होकर गुजरता है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia