अयोध्या फैसले के मद्देनजर योगी सरकार ने टाला लखनऊ महोत्सव, अब जनवरी में होगा

अयोध्या भूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला अगले सप्ताह आने वाला है। इसके मद्देनजर उत्तर प्रदेश में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की जा रही है। इसी के मद्देनजर योगी सरकार ने 25 नवंबर से होने वाले लखनऊ महोत्सव को टालने का फैसला किया है।

फाइल फोटो
फाइल फोटो
user

नवजीवन डेस्क

अयोध्या विवाद मामले में फैसला आने में बमुश्किल एक सप्ताह बचा है, ऐसे में प्रशासन हर कदम फूंक-फूंक कर रख रहा है। हर साल 25 नवंबर से 5 दिसंबर तक आयोजित होने वाला वार्षिक लखनऊ महोत्सव जनवरी के तीसरे सप्ताह तक के लिए टाल दिया गया है।

महोत्सव समिति ने गुरुवार को हुई अपनी बैठक में निर्णय लिया कि महोत्सव को टाल दिया जाना चाहिए। हालांकि समिति ने इसके पीछे का कोई कारण नहीं बताया, लेकिन सूत्रों ने कहा कि ऐसा अयोध्या विवाद पर सर्वोच्च न्यायालय के आने वाले फैसले को ध्यान में रखते हुए किया गया है।

दो साल पहले भी महोत्सव को राज्य में होने वाले नगर निगम चुनावों के मद्देनजर टाल दिया गया था। लखनऊ महोत्सव लखनऊ में और आसपास के जिलों में रहने वाले लोगों के लिए एक प्रमुख आकर्षण है। उत्तर प्रदेश के विभिन्न हिस्सों और अन्य राज्यों के कारीगर, शिल्पकार उस महोत्सव में भाग लेते हैं, जहां वे अपने सामानों व माल को प्रदर्शित करते हैं और बेचते हैं।

महोत्सव में एक सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किया जाता है जिसमें शीर्ष क्षेत्रीय और बॉलीवुड कलाकार पर परफॉर्म करते हैं।

लोकप्रिय