यूथ कांग्रेस ने दिल्ली सरकार पर लगाया कम कोरोना टेस्ट करने का आरोप, LG को सौंपा ज्ञापन, रोज एक लाख जांच की मांग

यूथ कांग्रेस अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी ने कहा कि दिल्ली की आप सरकार ने घातक दूसरी लहर से सबक नहीं सीखा है, जो इस तथ्य से स्पष्ट है कि सीएम केजरीवाल अन्य राज्यों में आगामी विधानसभा चुनावों के प्रचार में व्यस्त हैं, जबकि दिल्ली के लोगों को अकेले छोड़ दिया गया है।

फाइल फोटोः सोशल मीडिया
फाइल फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस की युवा इकाई भारतीय युवा कांग्रेस ने मंगलवार को दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल को एक ज्ञापन सौंपा, जिसमें दिल्ली सरकार पर राजधानी में कम कोरोना टेस्ट करने का आरोप लगाया है। युवा कांग्रेस के अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी ने उपराज्यपाल से यह सुनिश्चित करने का आग्रह किया कि अगले 15 दिनों तक रोजाना कम से कम 1 लाख टेस्ट किए जाएं और यह सुनिश्चित करें कि पॉजिटिव मामले वाले लोगों को ऑक्सीजन बेड उपलब्ध कराए जाएं।

यूथ कांग्रेस ने दिल्ली सरकार पर टेस्ट की संख्या को कम करके और इस तरह कोरोना मामलों की वास्तविक संख्या को दबाकर महामारी की जारी तीसरी लहर को संभालने में अपनी विफलता को कवर करने की कोशिश करने का भी आरोप लगाया। यूथ कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने कहा, "राष्ट्रीय राजधानी में टेस्ट पॉजिटिविटी रेट लगभग 30 प्रतिशत बनी हुई है, लेकिन टेस्ट की संख्या 12 जनवरी को लगभग 1 लाख से घटकर 17 जनवरी को लगभग 40,000 हो गई है।


यूथ कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, "दिल्ली सरकार का अपनाया गया तरीका मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खुद दिए गए बयानों के विपरीत है, क्योंकि उन्होंने '5 टी' परीक्षण, ट्रेसिंग, उपचार, टीम वर्क और वायरस को फैलने से रोकने के लिए ट्रैकिंग और निगरानी पर ध्यान केंद्रित करने की बात कही थी।"

यूथ कांग्रेस अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी ने आगे कहा कि केजरीवाल के नेतृत्व वाली दिल्ली सरकार ने घातक दूसरी लहर से सबक नहीं सीखा है, जो इस तथ्य से स्पष्ट है कि मुख्यमंत्री अन्य राज्यों में आगामी विधानसभा चुनावों के प्रचार में व्यस्त हैं, जबकि दिल्ली के लोगों को अकेले छोड़ दिया गया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia