जिग्नेश मेवाणी की गिरफ्तारी का यूथ कांग्रेस ने किया विरोध, अमित शाह के घर का घेराव करने से पहले पुलिस ने रोका

युवा कांग्रेस के अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी ने कहा कि बीजेपी के न्यू इंडिया में बलात्कारियों, आरोपियों की रक्षा की जाती है और लोगों की आवाज उठाने वाले नेताओं पर हमले होते हैं। भारत बीजेपी की तानाशाही से नहीं डरेगा, भारत लड़ेगा।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस की युवा इकाई यूथ कांग्रेस ने असम पुलिस द्वारा गुजरात के विधायक जिग्नेश मेवाणी की गिरफ्तारी के खिलाफ आज राजधानी दिल्ली में विरोध-प्रदर्शन किया और उनकी रिहाई की मांग की। इस दौरान युवा कार्यकर्ताओं ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के आवास की ओर मार्च करने की कोशिश की तो दिल्ली पुलिस ने बल प्रयोग कर उन्हें हिरासत में ले लिया।

भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी ने कहा कि जिग्नेश मेवाणी की गिरफ्तारी अवैध है। श्रीनिवास ने कहा कि असम पुलिस को विधायक को गिरफ्तार करने से पहले गुजरात विधानसभा के अध्यक्ष को इस तरह की किसी भी गिरफ्तारी के बारे में सूचित करना चाहिए था, लेकिन उन्हें सूचित भी नहीं किया गया, जो नियमों के खिलाफ है।


युवा कांग्रेस अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि बीजेपी के न्यू इंडिया में बलात्कारियों, आरोपियों की रक्षा की जाती है और लोगों की आवाज उठाने वाले नेताओं पर हमले होते हैं। भारत बीजेपी की तानाशाही से नहीं डरेगा, भारत लड़ेगा। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य मशीनरी का इस्तेमाल व्यक्ति की स्वतंत्रता और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को दबाने के लिए किया जा रहा है।
उन्होंने कहा कि सरकार कितनी भी कोशिश कर ले, वह सच्चाई की आवाज को दबा नहीं सकती।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ एक कथित 'आपत्तिजनक' ट्वीट के सिलसिले में असम पुलिस ने बीते सप्ताह जिग्नेश मेवाणी को गुजरात में उनके गृह राज्य से गिरफ्तार किया था और अपने साथ कोकराझार ले गई थी। इस मामले में दो दिन पहले सीजेएम कोर्ट से उन्हें जमानत मिलने के तुरंत बाद मेवाणी को फिर से एक अन्य मामले में गिरफ्तार कर लिया गया। इस मामले में बारपेटा जिले की अदालत ने मंगलवार को मेवाणी की जमानत याचिका को खारिज कर दिया और उन्हें पांच दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया। मेवाणी के वकील अंगशुमन बोरा ने फोन पर बताया कि वे बुधवार को तय करेंगे कि जमानत याचिका को उच्च न्यायालय में ले जाया जाएगा या नहीं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia