यूथ कांग्रेस ने पेगासस जासूसी कांड के खिलाफ किया प्रदर्शन, फोन टैपिंग की जेपीसी जांच की मांग की

यूथ कांग्रेस अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी ने कहा कि लोकतंत्र को पैरों तले रौंदा जा रहा है। मोदी सरकार संविधान और कानून दोनों का गला घोंट रही है। उन्होंने बीजेपी नीत केंद्र सरकार पर देशद्रोह करने और राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़ करने का आरोप लगाया।

फोटोः @IYC
फोटोः @IYC
user

नवजीवन डेस्क

भारतीय युवा कांग्रेस के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने इजराइली सॉफ्टवेयर पेगासस के जरिए कथित फोन टैपिंग के खुलासे पर मंगलवार को दिल्ली में फिर से विरोध प्रदर्शन किया। जैसे ही यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ता संसद भवन की ओर बढ़ने लगे, दिल्ली पुलिस ने बैरिकेड लगाकर रोक दिया। जिससे युवा कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच जमकर धक्कामुक्की हुई। बाद में पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया और मध्य दिल्ली के मंदिर मार्ग पुलिस स्टेशन ले जाया गया।

यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी के नेतृत्व में शामिल सैकड़ों युवा कार्यकर्ताओं ने पेगासस द्वारा पत्रकारों, विपक्षी नेताओं, मंत्रियों और सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों की जासूसी करने का विरोध किया। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) की जांच की मांग दोहराई।

श्रीनिवास बीवी ने केंद्र सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार संविधान और कानून दोनों का गला घोंट रही है। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र को उसके पैरों तले रौंदा जा रहा है। देश के नागरिकों के मौलिक अधिकारों का दमन किया जा रहा है। उन्होंने बीजेपी नीत केंद्र सरकार पर देशद्रोह करने और राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़ करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, "कांग्रेस नेता राहुल गांधी समेत देश के विपक्षी नेताओं, विभिन्न मीडिया संगठनों के पत्रकार और संवैधानिक पदों पर बैठे लोगों की जासूसी की गई है।"

यूथ कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि बीजेपी पर तंज कसते हुए श्रीनिवास ने कहा कि सत्तारूढ़ दल का नाम बदलकर 'भारतीय जासूस पार्टी' कर देना चाहिए। एनएसओ समूह कह रहा है कि पेगासस का इस्तेमाल सरकारों द्वारा आतंकवाद से लड़ने के लिए किया जाता है। श्रीनिवास ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जवाब मांगते हुए पूछा कि राहुल गांधी के फोन पर जासूसी करके वह किस अपराध और आतंक से लड़ रहे थे? उन्होंने पूछा, "आप पत्रकारों की जासूसी करके किस आतंकवादी से लड़ रहे थे? आप मुख्य चुनाव आयुक्त की जासूसी करके किस आतंकवादी से लड़ रहे थे?"


उन्होंने कहा कि समाचार रिपोर्ट में दावा किया जा रहा है कि न केवल पत्रकारों, विपक्ष के नेताओं और यहां तक कि उनके अपने मंत्रियों की भी जासूसी की गई। श्रीनिवास बीवी ने कहा, "इस तरह के कृत्य से कायर मोदी सरकार ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर देश की छवि को चोट पहुंचाई है और हम मांग करते हैं कि इस जासूसी मामले की जांच जेपीसी द्वारा और सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में की जानी चाहिए।" यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी राहुल राव ने कहा कि वे तब तक नहीं रुकेंगे जब तक जासूसी में शामिल लोगों को दंडित नहीं किया जाता।

बता दें कि संसद के मानसून सत्र के एक दिन पहले जारी एक वैश्विक सहयोगी जांच परियोजना की रिपोर्ट से पता चला कि इजराइली कंपनी एनएसओ ग्रुप के पेगासस स्पाइवेयर द्वारा भारत में 300 से अधिक मोबाइल फोन नंबरों को निशना बनाया गया है, जिसमें नरेंद्र मोदी सरकार के दो मंत्रियों, तीन विपक्ष, नेता, संवैधानिक प्राधिकरण, कई पत्रकार और व्यवसायी शामिल हैं। कांग्रेस ने सोमवार को केंद्र सरकार पर देशद्रोह का आरोप लगाया और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को पत्रकारों, न्यायाधीशों और राजनेताओं के फोन की जासूसी और हैकिंग के लिए जिम्मेदार ठहराया और जांच की मांग की।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 20 Jul 2021, 10:22 PM