फेक है, डीपफेक पर प्रधानमंत्री जी की चिंता और मीडिया की रिपोर्टिंग!

आश्चर्य यह है कि डीपफेक पर चिंता जताने के बाद भी प्रधानमंत्री समेत किसी ने भी आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस के व्यापक उपयोग और इससे होने वाले नुकसान पर कुछ नहीं कहा है।

अनेक हस्तियों ने भी डीपफेक को खतरनाक बताया है।
अनेक हस्तियों ने भी डीपफेक को खतरनाक बताया है।
user

महेन्द्र पांडे

दीपावली की रात में प्रधानमंत्री मोदी ने बीजेपी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए “डीपफेक” पर चिंता व्यक्त की है। प्रधानमंत्री ने सोशल मीडिया पर देखे जा रहे एक वीडियो का जिक्र किया जिसमें वे गरबा करते नजर आ रहे हैं। पर प्रधानमंत्री जी का यह दावा ही झूठा निकला क्योंकि उस वीडियो में प्रधानमंत्री नहीं बल्कि उनके हमशक्ल, ने गरबा किया था और वह वीडियो वास्तविक वीडियो था। डीपफेक एक टेक्नोलॉजी है जिसकी मदद से किसी भी ऑडियो-विजुएल फाइल में आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस की मदद से आवाज या चित्र को बदला जा सकता है – किसी की आवाज बदल कर दूसरे की आवाज डाली जा सकती है, या फिर किसी के चेहरे पर किसी दूसरे का चेहरा लगाया जा सकता है। डीपफेक की मदद से बनी फाइलें बिलकुल वास्तविक नजर आती हैं। हाल में ही अभिनेत्री, रश्मिका मंधाना, ने सोशल मीडिया पर प्रसारित अपनी डीपफेक फोटो की शिकायत की है। इसके बाद अमिताभ बच्चन और करिश्मा कपूर समेत अनेक हस्तियों ने भी इसे खतरनाक बताया है।

आश्चर्य यह है कि डीपफेक पर चिंता जताने के बाद भी प्रधानमंत्री समेत किसी ने भी आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस के व्यापक उपयोग और इससे होने वाले नुकसान पर कुछ नहीं कहा है। अमेरिका और यूरोप के अनेक देश आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस के उपयोग और प्रसार पर लगाम लगाना चाहते हैं, आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस के विकास से जुड़े वैज्ञानिक भी आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस के उपयोग के लिए अंतरराष्ट्रीय परमाणु समझौता जैसा वैश्विक क़ानून की वकालत कर रहे हैं। दूसरी तरफ हमारे देश में प्रधानमंत्री जी इसके व्यापक प्रसार पर तो बहुत जोर देते हैं पर इसपर लगाम लगाने पर चुप्पी साध लेते हैं। हाल में ही यूनाइटेड किंगडम में अनेक देशों ने आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस पर लगाम लगाने के लिए सम्मिलित तौर पर ब्लेत्च्ले समझौता (Bletchley Agreement) किया है, जिसपर अमेरिका. चीन, जापान और यूरोपियन यूनियन ने सहमति के हस्ताक्षर किए हैं, पर भारत ने इस अधिवेशन में हिस्सा ही नहीं लिया।

प्रधानमंत्री या किसी भी दूसरे बीजेपी नेता द्वारा डीपफेक पर चिंता जाहिर करना महज एक दिखावा ही कहा जाएगा, क्योंकि लगभग साढ़े तीन वर्षों पहले संपन्न हुए दिल्ली विधान सभा के चुनावों के समय दिल्ली बीजेपी ने डीपफेक टेक्नोलॉजी का खुलेआम इस्तेमाल किया था, पर प्रधानमंत्री ने उस समय कुछ भी नहीं कहा था। यह पहला मौका था जब हमारे देश में


किसी राजनैतिक दल ने डीपफेक टेक्नोलॉजी का उपयोग चुनावों में प्रचार के लिए किया था। समाचार साईट वाईस डॉट कौम ने सबसे पहले इसका खुलासा किया था, और इसके आधार पर रिपोर्टिंग कई समाचारपत्रों के साथ ही एमआईटी टेक्नोलॉजी रिव्यू में भी की गयी थी।

दिल्ली चुनावों के समय बीजेपी नेता मनोज तिवारी ने एक वीडियो बनवाया था जिसमें उन्होंने हिन्दी में बीजेपी को वोट देने की अपील के साथ ही अरविन्द केजरीवाल पर भी तंज कसा था। इसके बाद दिल्ली बीजेपी ने आइडियाज फैक्ट्री (Ideaz Factory) नामक एक आईटी कंपनी से संपर्क कर डीपफेक का काम दिया। इसके अनुसार मनोज तिवारी के मौलिक हिन्दी संवाद वाले वीडियो के आधार पर अंगरेजी और हरियाणवी में भी सन्देश वाले वीडियो बनाने थे। यानि, डीपफेक टेक्नोलॉजी का उपयोग कर मनोज तिवारी को अंगरेजी और हरियाणवी में भी जनता को सन्देश देना था। ये वीडियो बने, सोशल मीडिया पर भी व्यापक तरीके से प्रचारित किये गए और इसमें भाषा के अनुसार मनोज तिवारी के होठों के हिलने का अंदाज बदला गया और मौलिक स्क्रिप्ट में भी कुछ बदलाव किये गए।

इस वाकया के साढ़े तीन वर्षों बाद अब प्रधानमंत्री जी को यह टेक्नोलॉजी चिंताजनक नजर आने लगी है और इसे भविष्य के लिए खतरनाक संकेत बता रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारत का एक बड़ा हिस्सा ऐसा है जिसके पास ऐसे वीडियो के सत्यापन की कोई सुविधा नहीं है, इसलिए खतरे और भी गंभीर हैं। प्रधानमंत्री जी के अनुसार उन्होंने भी अपना एक ऐसा वीडियो सोशल मीडिया पर देखा है जिसमें वो गरबा करते नजर आ रहे हैं – यह डीपफेक वीडियो इतना अच्छा बना है कि मैं इससे बहुत प्रभावित हूं।

पर, प्रधानमंत्री जी का यह दावा भी फेक साबित हुआ। हाल में ही मुंबई के एक उद्योगपति और कलाकार विकास म्हणते (Vikas Mahate) ने सोशल मीडिया के माध्यम से दावा किया है कि प्रधानमंत्री जिस डीपफेक वीडियो की बात कर रहे हैं, वह दरअसल डीपफेक नहीं बल्कि वास्तविक वीडियो है। विकास म्हणते की शक्ल और कद-काठी प्रधानमंत्री मोदी से बहुत अधिक मिलती है, इसके साथ ही वे बीजेपी और प्रधानमंत्री मोदी की विचारधारा पसंद करते हैं। प्रधानमंत्री मोदी के हमशक्ल होने के कारण विकास म्हणते को देश-विदेश में अनेक कार्यक्रमों में बुलाया जाता है। दिवाली से ठीक पहले उन्हें लंदन के एक कार्यक्रम में बुलाया गया था, जहां गरबा करते हुए इस चर्चित वीडियो को बनाया गया है। चुनावों के समय भी बीजेपी के रोड शो में अनेक जगह विकास म्हणते को बुलाया जाता है और उन्हें ट्रक पर सबसे आगे खड़ा किया जाता है। विकास म्हणते के अनुसार गुजरात के मुख्यमंत्री रहते वे मोदी जी से मिल भी चुके हैं, पर मोदी जी ने उनके साथ फोटो खिंचवाने से मना कर दिया था।

जाहिर है, बीजेपी और स्वयं प्रधानमंत्री मोदी के लिए विकास म्हणते कोई अनजाना नाम या अनजानी शक्ल नहीं हैं, और प्रधानमंत्री के दावे वाली वीडियो डीपफेव नहीं बल्कि वास्तविक वीडियो है जिसमें प्रधानमंत्री नहीं बल्कि उनके हमशक्ल हैं। वर्ष 2019 के चुनावों के समय प्रधानमंत्री के दूसरे हमशक्ल अभिनन्दन पाठक का नाम और तस्वीरें भी चर्चा में थीं। अभिनन्दन पाठक प्रधानमंत्री मोदी से तो प्रभावित हैं पर बीजेपी और सरकार की नीतियों से सहमत नहीं हैं। उन्होंने वर्ष 2019 के चुनावों में लखनऊ ने निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ा था।

प्रधानमंत्री मोदी के डीपफेक पर चिंता प्रकट करने से चिंता कम और सवाल अधिक खड़े होते हैं। यदि, उन्हें सही में इस टेक्नोलॉजी के दुरूपयोग की चिंता है, तो फिर वे बीजेपी कार्यकर्ताओं के साथ ही सामान्य जनता को यह बात क्यों नहीं बताते – आजकल तो लगभग हरेक दिन वे चुनावी दौरे पर ही रहते हैं, भाषण देते हैं, रोडशो करते हैं। क्या एक चिंताजनक बात “मन की बात” के अलावा जनता को जानने का अधिकार नहीं है? दूसरा सवाल यह है कि बिना पर्याप्त जांच के ही उन्होंने किसी वीडियो को किस आधार पर सार्वजनिक तौर पर डीपफेक करार दिया। कहीं, यह सब “ओबीसी” दांव की तरह सहानुभूति या विक्टिम कार्ड का तरीका तो नहीं है? यह भी संभव है कि वे डीपफेक का जिक्र और उदाहरण देकर अप्रत्यक्ष तौर पर बीजेपी कार्यकर्ताओं को इसके व्यापक उपयोग का सन्देश दे रहे हों।

याद कीजिये, नोटबंदी के दौर में प्रधानमंत्री मोदी ने का था कि उन्होंने एक वीडियो देखा है जिसमें एक भिखारी कार्ड स्वैपिंग मशीन लेकर भीख माँग रहा है। प्रधानमंत्री ने जब यह वक्तव्य दिया था, उससे बहुत पहले ही इस वीडियो को बनाने वालों ने बता दिया था कि उन्होंने मजाक में यह वीडियो बनाया है। इसके बाद भी सार्वजनिक तौर पर इस वीडियो का जिक्र कर उन्होंने केवल भिखारी होने का महिमा मंडन ही नहीं किया बल्कि एक फेक खबर को बढ़ावा दिया था।


बीजेपी, सत्ता और मेनस्ट्रीम मीडिया की नजर में जो फेक है वही वास्तविक है और जो सही में वास्तविक है वह अर्बन नक्सल, माओवादी, देशद्रोही, आतंकवादी, पाकिस्तानी और टुकड़े-टुकड़े गैग है। बीजेपी का आईटी सेल तो फेक न्यूज़ की खान है और देश का मीडिया भी इसी राह पर है। आश्चर्य यह है कि प्रधानमंत्री जी के नमो ऐप से भी अनेकों बार फेकन्यूज़ और

मोर्फेड वीडियो को शेयर किया है। हमारे देश में जिस तरह की स्थितियां हैं, उसमें डीपफेक की तो जरूरत ही नहीं है। यहां तो जो सत्ता में हैं और उनके समर्थक कभी भी किसी पर भी कोई अनर्गल और बिना सबूत के ही आरोप लगा सकते हैं और इन निराधार आरोपों के आधार पर पुलिस से लेकर सभी जांच एजेंसियां अपनी कार्यवाही में लग जाती हैं। मीडिया पर किसी को कभी भी मुजरिम करार दिया जा सकता है। सभी चुनावी भाषण, जिसमें प्रधानमंत्री के भाषण भी सम्मिलित हैं, बस निराधार आरोप पर ही टिके हैं।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;