खरी-खरी: RSS और हिन्दुत्व को राहुल गांधी से मिल रही कड़ी चुनौती, इसलिए बढ़ गई है भागवत की चिंता!

राहुल गांधी की कन्याकुमारी से कश्मीर तक की भारत जोड़ो यात्रा ने संघ और बीजेपी के हिन्दुत्व अभियान पर पानी फेर दिय। इसके बाद तो भागवत को गुस्सा आना ही था जो उनके साक्षात्कार से स्पष्ट है।

फोटो: INCIndia
फोटो: INCIndia
user

ज़फ़र आग़ा

संघ इस समय देश का सबसे बड़ा संगठन है। इसका प्रभाव देश के धार्मिक, सामाजिक और राजनीतिक क्षेत्रों में सबसे अधिक है। इसलिए जब संघ का मुखिया कुछ बोले, तो देश कान लगाकर सुनता है। यही कारण है कि पिछले सप्ताह जब सरसंघ संचालक मोहन भागवत ने एक साक्षात्कार में खुलकर विभिन्न मुद्दों पर अपने विचार व्यक्त किए, तो वे चर्चा में आ गए और अभी भी उनके विचारों का विश्लेषण चल रहा है। भागवत ने बहुत सारे बिंदुओं पर बात की। हद यह है कि वह एलजीबीटीक्यू की समस्या पर भी बोले। लेकिन मुख्यतः जो बातें सबसे अधिक चर्चा में रहीं, वे हिन्दू समाज और हिन्दू समाज के मुस्लिम समाज से संबंध जैसे मुद्दों पर थीं। भागवत जी के अनुसार, हिन्दू समाज ने एक हजार वर्ष बाद स्वतंत्रता प्राप्त की है। ऐसे में उनका मानना है कि मुसलमानों को अपने बारे में सर्वश्रेष्ठता (सुपरमेसी)  का भ्रम नहीं होना चाहिए बल्कि मुस्लिम समाज चुपचाप इस देश में अपना जीवन व्यतीत करे। साथ ही भागवत ने मुस्लिम एवं ईसाई समाज को आगाह किया कि वे किसी प्रकार की धर्म परिवर्तन की कोई मुहिम न चलाएं।

मोहन भागवत ने हिन्दू, मुस्लिम एवं ईसाई समाजों के संबंध में जो कुछ कहा, वह कोई नई बात नहीं है। संघ की स्थापना के समय से आज तक इन मुद्दों पर संघ के यही विचार रहे हैं। संघ इस देश को ‘हिन्दू राष्ट्र’ मानता है। उसके अनुसार, मुसलमान देश, अर्थात हिन्दुओं के ‘मुख्य शत्रु’ हैं और हिन्दू समाज मुसलानों के साथ एक ‘स्थायी जंग’ में है। संघ हमेशा से ही देश में धर्म परिवर्तन का भी विरोधी रहा है। भागवत ने इन्हीं बातों को दोहराया है। केवल दो बातें चौंकाने वाली हैं। पहली बात, साक्षात्कार का समय और दूसरी बात, उनके साक्षात्कार का लहजा। इस समय देश में संघ की हिन्दुत्व विचारधारा का डंका बज रहा है। साथ ही नरेन्द्र मोदी सरकार खुलकर संघ का एजेंडा लागू कर रही है। कश्मीर से धारा 370 खत्म हो चुकी है। राम मंदिर निर्माण तेजी से चल रहा है। काशी-मथुरा विवाद भी कोर्ट तक पहुंच चुका है। देश में हिन्दू समाज ‘आक्रामक मुद्रा’ में है। मुस्लिम समाज भय का जीवन व्यतीत कर रहा है और लगभग पूरी तरह हाशिये पर है। इसलिए सरसंघ चालक को इस समय इन बातों को दोहराने की कोई बहुत आवश्यकता नहीं थी। फिर भी भागवत ने इन बातों को उठाया ही नहीं बल्कि उनके लहजे से कुछ गुस्से का भाव भी प्रकट हो रहा है। इस समय इन बातों पर भागवत को गुस्सा क्यों आ रहा है!


जैसा अभी कहा कि देश की आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक दिशा संघ की मर्जी के अनुसार चल रही है। सारे राजनीतिक दलों की स्थिति बीजेपी के आगे खराब है। फिर भी मोहन भागवत को गुस्सा आ रहा है, आखिर क्यों? कोई तो कारण जरूर होगा जिसने भागवत को बोलने पर मजबूर किया होगा। देश में चारों ओर निगाह डालें, तो सन 2014 में नरेन्द्र मोदी के उदय के बाद अभी हाल तक केवल एक परिवर्तन हुआ है और वह है राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा। यह एक महत्वपूर्ण परिवर्तन है। सबसे अहम बात यह है कि वह राहुल गांधी एकदम से देश की राजनीति में पुनः प्रासंगिक हो गए हैं जिनको संघ एवं बीजेपी लगभग ‘पप्पू’ की छवि दे चुके थे। अब संघ सहित कोई भी इस समय राहुल गांधी का मखौल नहीं बना सकता है। केवल इतना ही नहीं, नवंबर, 2022 में कन्याकुमारी से राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा के आरंभ होने से अब तक कोई भी राहुल गांधी की यात्रा के विरुद्ध एक शब्द भी नहीं बोल सका है। निःसंदेह संघ के लिए यह बात केवल चिंता की ही नहीं बल्कि गुस्से का भी कारण होना ही चाहिए। राहुल गांधी भारत जोड़ो यात्रा से अब देश में संघ एवं संघ विचारधारा तथा नरेन्द्र मोदी के मुख्य प्रतिद्वंद्वी के रूप में उभर चुके हैं। संघ एवं मोदी- दोनों को सन 2014 से ही इस बात की आशंका थी। तब ही तो नरेन्द्र मोदी के सत्ता में आने के तुरंत बाद संघ एवं बीजेपी राहुल गांधी की छवि बिगाड़ने पर लगे थे और बहुत हद तक सफल भी थे। भारत जोड़ो यात्रा ने संघ एवं बीजेपी के इस अभियान पर पानी फेर दिया। इसके बाद तो भागवत को गुस्सा आना ही था जो उनके साक्षात्कार से स्पष्ट है।

दूसरी अन्य बात गुस्से की यह है कि सन 2014 से अब तक संघ की हिन्दुत्व विचारधारा को किसी प्रकार के चैलेंज का सामना नहीं करना पड़ा था। लेकिन देश में यात्रा के माध्यम से नफरत बनाम प्रेम एवं सद्भावना का अभियान चलाकर राहुल गांधी ने देश के समक्ष एक नया वैचारिक वैकल्पिक विमर्श (अल्टरनेटिव नैरेटिव) रख दिया है। राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा से गांव एवं नगर हर स्तर पर यह नैरेटिव पहुंच गया है कि एक ओर संघ की नफरत की एवं विभाजन की राजनीति है, तो दूसरी तरफ कांग्रेस की प्रेम एवं सद्भावना की राजनीति है। इससे हिन्दुत्व को चैलेंज का ही सामना नहीं करना पड़ा है बल्कि देश में एक वैचारिक मंथन भी उत्पन्न कर दिया है। यह संघ के लिए बड़ी चिंता का विषय बन गया है। लगभग सौ वर्षों के कठिन परिश्रम के पश्चात जब संघ की हिन्दुत्व विचारधारा अपने चरम सीमा पर पहुंची, तो उसको राहुल गांधी ने चैलेंज कर दिया। यह बात भी सरसंघ चालक के लिए गुस्से की है। भागवत को इस बात का आभास हो रहा है कि सन 2024 का लोकसभा चुनाव राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा के बाद नफरत बनाम प्रेम एवं सद्भावना के वैचारिक बिंदु पर हो सकता है। और राहुल गांधी इस वैचारिक मंथन के स्वाभाविक नेता के रूप में उभरेंगे। अर्थात संघ एवं बीजेपी- दोनों का राहुल विरोधी एवं केवल हिन्दुत्व विचारधारा- दोनों ही संकट में पड़ गए हैं। जाहिर है कि मोहन भागवत को गुस्सा आना ही चाहिए।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;