विचार

दक्षिण एशिया की बुनियादी समस्याएं बड़ी चुनौती, समाधान के लिए जरूरी है अमन-शांति का माहौल

वैसे तो विश्व के सभी देशों में अमन-शान्ति को मजबूत करना आज बेहद जरूरी है। लेकिन कुछ विशेष कारणों से दक्षिण एशिया में यह और भी ज्यादा जरूरी है। लगभग 200 साल तक औपनिवेशिक शोषण सहने के कारण यहां के लोगों की बुनियादी जरूरतों को पूरा करना एक बड़ी चुनौती है।

फोटोः सोशल मीडिया

भारत डोगरा

दक्षिण एशिया में विश्व की 21 प्रतिशत आबादी रहती है, लेकिन यहां विश्व की मात्र 3 प्रतिशत भूमि है। इतना ही नहीं, दक्षिण एशिया के एक बड़े हिस्से को लगभग 200 वर्षों तक औपनिवेशिक शोषण सहना पड़ा। इस कारण यहां सभी लोगों की बुनियादी जरूरतों को पूरा करना एक बड़ी चुनौती है, लेकिन व्यापक स्तर की सामाजिक-आर्थिक विषमता और इससे जुड़ी नीतिगत विसंगतियों के कारण इस चुनौती का सामना मजबूती से नहीं हो पाया है।

दक्षिण एशिया में गरीबी, भूख और कुपोषण की समस्याएं बहुत बड़े पैमाने पर मौजूद हैं। सबसे बड़ी प्राथमिकता इन समस्याओं को दूर करने को मिलनी चाहिए। लेकिन तरह-तरह के तनावों, आतंकवाद की घटनाओं और युद्ध की संभावना उत्पन्न होने के कारण जो वास्तविक लड़ाई भूख और गरीबी के विरुद्ध आगे बढ़नी चाहिए, वह पीछे रह जाती हैं।

दक्षिण एशिया मानव विकास रिपोर्ट ने इन देशों में हथियारों पर होने वाले खर्च और विकास कार्यों पर होने वाले खर्च का तुलनात्मक अध्ययन किया है। इस आकलन के अनुसार कई बड़े और विध्वंसक हथियारों की कीमत में कई अहम बुनियादी जरूरतों पर होने वाला खर्च आसानी से निकल सकता है।

रिपोर्ट के अनुसार एक युद्धक टैंक की कीमत देश के 40 लाख बच्चों के टीकाकरण पर होने वाले खर्चे के बराबर है। वहीं एक मिराज विमान की कीमत में 30 लाख बच्चों की साल भर की प्राथमिक शिक्षा का खर्च निकल सकता है। एक आधुनिक पनडुब्बी और उससे जुड़े उपकरण के खर्च में 6 करोड़ लोगों को एक साल तक साफ पीने का पानी दिया जा सकता है।

दक्षिण एशिया की बुनियादी समस्याएं बड़ी चुनौती, समाधान के लिए जरूरी है अमन-शांति का माहौल

जब युद्ध की संभावना में वृद्धि के कारण सैन्य खर्च बढ़ाना एक मजबूरी हो जाता है तो तरह-तरह के अभाव को दूर करने के लिए संसाधन भी कम हो जाते हैं और इस प्राथमिकता की ओर समुचित ध्यान देने की संभावना भी कम हो जाती है।

दक्षिण एशिया की पहचान उन क्षेत्रों में होती है जो आगामी वर्ष में जलवायु बदलाव और उससे मिले-जुले संकट से अधिक प्रभावित हो सकते हैं। दक्षिण एशिया में बहुत बड़ा समुद्र तटीय क्षेत्र है जहां समुद्र का जल-स्तर बढ़ने से अभूतपूर्व संकट पैदा हो सकता है। इन संकटों का सामना करने की तैयारी दक्षिण एशिया के विभिन्न देशों को आपसी सहयोग से अभी से करनी चाहिए। पहले ही काफी देर हो चुकी है। लेकिन आतंकवाद की घटनाओं और युद्ध की संभावनाओं की वजह से ऐसे अल्पकालीन और दीर्घकालीन सहयोग की संभावना बेहद कम हो जाती है।

स्पष्ट है कि दक्षिण एशिया की विभिन्न बुनियादी समस्याओं के समाधान के लिए पहली बड़ी जरूरत यह है कि यहां अल्पकालीन और दीर्घकालीन दोनों स्तरों पर अमन-शांति का माहौल स्थापित हो और इसकी मजबूत बुनियाद भी तैयार हो।

हथियारों के निरंतर विध्वंसक होते जाने से यह स्पष्ट है कि युद्ध और आतंकवादी घटनाओं दोनों से होने वाली क्षति पहले से बहुत बढ़ चुकी है। दक्षिण एशिया के दो देशों के पास परमाणु शस्त्र हैं, जिनका बहतु सीमित उपयोग होने पर लाखों लोग मर सकते हैं। युद्ध में इनका उपयोग ना हो तो भी यह निश्चित है कि दूसरे अत्यंत विध्वंसक हथियारों के कारण युद्ध में पहले से बहुत अधिक मानव जीवन का नुकसान होगा।

इसलिए दक्षिण एशिया के सभी देशों में विभिन्न स्तरों पर अमन-शांति का आंदोलन बहुत मजबूती से उभरना चाहिए। इस जन आंदोलन को सभी तरह की हिंसा के विरुद्ध, आतंकवाद के विरुद्ध और युद्ध की संभावना के विरुद्ध निरंतरता और निष्ठा के साथ प्रयास करने चाहिए। साथ में इस शांति के आंदोलन को दैनिक जीवन में हिंसा के विरुद्ध भी निरंतरता से प्रयास करना होगा। तभी बड़ी संख्या में लोग इस आंदोलन से जुड़ेंगे।

लोकप्रिय