ग़ालिब की सोच अपने समाज और वक्त से आगे की थी: रख़्शंदा जलील

मशहूर शायर मिर्ज़ा ग़ालिब की 220वीं सालगिरह पर जानी-मानी लेखक और आलोचक रख़्शंदा जलील से क़ौमी आवाज़ के चीफ़ एडिटर ज़फ़र आग़ा की विशेष बातचीत।

user

नवजीवन डेस्क

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 27 Dec 2017, 9:22 PM