ग़ालिब की सोच अपने समाज और वक्त से आगे की थी: रख़्शंदा जलील

मशहूर शायर मिर्ज़ा ग़ालिब की 220वीं सालगिरह पर जानी-मानी लेखक और आलोचक रख़्शंदा जलील से क़ौमी आवाज़ के चीफ़ एडिटर ज़फ़र आग़ा की विशेष बातचीत।

user

नवजीवन डेस्क

Published: 27 Dec 2017, 9:22 PM
लोकप्रिय
next