बिहारः नीतीश-बीजेपी के रिश्ते में आ गई खटास! दिल्ली में हुए अहम सम्मेलन में नहीं जाने पर चर्चा सरगर्म

बिहार एनडीए में सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी से मांग उठ रही है कि मुख्यमंत्री पार्टी का नेता हो, जो नीतीश को अच्छा नहीं लगा। इसी से खफा होकर नीतीश ने हाल में विरोधी पार्टी आरजेडी की इफ्तार पार्टी में शिरकत की और लाउडस्पीकर विवाद पर बीजेपी के खिलाफ खड़े हो गए।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में मुख्यमंत्रियों और हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीशों के संयुक्त सम्मेलन से नीतीश कुमार नदारद रहे। राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि बिहार एनडीए में सब कुछ ठीक नहीं है। हालांकि जेडीयू ने ऐसी किसी बात से इनकार किया है। जेडीयू का कहना है कि उनके दिल्ली नहीं जाने का मतलब यह नहीं है कि वे अलग हो रहे हैं। एनडीए सरकार स्थिर और बरकरार है।

वहीं, ये भी अटकलें लगाई जा रही हैं कि नीतीश कुमार को उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया जा सकता है, लेकिन जेडीयू नेता ने इसे खारिज कर दिया। चूंकि, एनडीए में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी है, ऐसे में मांग उठी कि बिहार का मुख्यमंत्री पार्टी का ही नेता हो, जो नीतीश कुमार को अच्छा नहीं लग रहा। इसी बात से खफा होकर नीतीश कुमार ने हाल में विरोधी पार्टी आरजेडी की इफ्तार पार्टी में शिरकत की और लाउडस्पीकर विवाद पर बीजेपी के खिलाफ खड़े हो गए।


इन सबके बीच बिहार में नीतीश कुमार और विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव के बीच राजनीतिक दूरी कम होती दिख रही है। दोनों पिछले दस दिनों में तीन बार इफ्तार पार्टी में मिले हैं। पहले पूर्व सीएम राबड़ी देवी के आवास पर, फिर 22 अप्रैल को और पूर्व सीएम जीतन राम मांझी के आवास पर दोनों की मुलाकात हुई।

इन तीनों बैठकों का असर तेजस्वी यादव और नीतीश कुमार के बयानों पर भी दिख रहा है। तेजस्वी यादव, जो पहले कभी नीतीश कुमार पर निशाना साधा करते थे, अब वह सिर्फ नरेंद्र मोदी सरकार पर ही आरोप लगाते नजर आ रहे हैं। वहीं, नीतीश कुमार की विचारधारा और रुख बीजेपी से मेल नहीं खा रहे हैं। इस बीच कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि पार्टी स्थिति पर पैनी नजर बनाए हुई है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia