राजनीति

अहंकार ने बीजेपी को कर दिया कमज़ोर और मजबूर, सहयोगी दलों के एनडीए छोड़ने से दबाव में मोदी सरकार: सचिन पायलट

कांग्रेस नेता और राजस्थान के डिप्टी सीएम सचिन पायलट का मानना है कि 2019 में कांग्रेस केंद्र में सरकार बनाएगी। उनका कहना है कि बीजेपी के सहयोगी दल उससे नाता तोड़ रहे हैं और केंद्र में सत्तारूढ़ पार्टी दबाव में है।

फोटो : सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

बीजेपी के अहंकार के कारण उसके सहयोगी दल एनडीए छोड़ रहे हैं, और इसका दबाव बीजेपी पर साफ नज़र आ रहा है। यह कहना है राजस्थान के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट का। पायलट का इशारा हाल ही में बिहार में एनडीए के सीट बंटवारे की तरफ था।

पायलट ने कहा कि, “उपेंद्र कुशवाहा ने एनडीए छोड़ दिया, टीडीपी पहले ही नाता तोड़ चुकी थी, शिवसेना भी बीजेपी को आंखें दिखा रही है। इस सबके चलते बीजेपी जबरदस्त दबाव में है। यही कारण है कि बीजेपी को बिहार में जेडीयू जैसी पार्टी को 17 सीटें देने पर विवश होना पड़ा, जबकि मौजूदा लोकसभा उसके सिर्फ 2 सांसद हैं। इससे पता चलता है कि बीजेपी कितनी असुरक्षा के दौर से गुज़र रही है।”

उन्होंने कहा कि, “बीजेपी नेता हमेशा कांग्रेस की तरफ उंगली उठाते रहे कि वह अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष कर रही है, लेकिन राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के चुनावी नतीजों ने उसकी नींद उड़ा दी है और एक बड़ा संदेश दिया है।”

सचिन पायलट ने कहा कि, “केंद्र की पूर्ण बहुमत की सरकार इतनी कमजोर और मजबूर हो गई है कि उसे (बिहार में) समझौता करना पड़ा है। उसे एहसास है कि लोग अब उसे वोट नहीं देंगे, और ऐसा एक कमजोर सरकार ही करती है।”

उन्होंने कहा कि बीजेपी को यह स्वीकार कर लेना चाहिए कि इसके दिन लद गए हैं। पायलट के मुताबिक, “नितिन गडकरी ने राज्यों में हार की बात करते हुए नेतृत्व से जिम्मेदारी लेने की बात कही है। जब भी कांग्रेस हारी है तो कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने विनम्रता से जिम्मेदारी स्वीकारी है, लेकिन बीजेपी का यह अहंकार है कि तीन राज्यों में हार के बाद भी वह जिम्मेदारी लेने को तैयार नहीं है।”

पायलट ने बताया कि राजस्थान में करीब 12.5 फीसदी वोटों का स्विंग (इधर-उधर होना) हुआ है और कांग्रेस की सीटों की संख्या 2013 के मुकाबले पांच गुना हो गई। “हमने 2013 में 21 सीटें जीती थीं, जो कि 2018 में बढ़कर 99 पहुंच गई, हमारा वोट शेयर 6 फीसदी बढ़ा है और बीजेपी को 6.6 फीसदी वोटों का नुकसान हुआ है।”

पायलट राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष भी हैं। उन्होंने कहा कि पार्टी की जीत से कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ा है और वे पूरे जोश के साथ 2019 की तैयारियों में जुट गए हैं।“उन्होंने कहा कि, “हम अपने वादे पूरे कर रहे हैं और आने वाले चुनावों की तैयारियों में जुटे हैं। आने वाले लोकसभा चुनाव में हम भारी जीत हासिल करेंगे और कांग्रेस केंद्र में सरकार बनाएगी।”

राजस्थान में लोकसभा की 25 सीटें हैं। मौजूदा लोकसभा में राजस्थान से बीजेपी के 22 सांसद हैं। 2014 के चुनाव में बीजेपी ने राज्य की सभी 25 सीटें जीती थीं, लेकिन उपचुनावों में कांग्रेस ने उसे दो सीटों पर मात दी

(एजेंसी इनपुट के साथ)

लोकप्रिय