कैलाश विजयवर्गीय की धमकी- इंदौर में लगा दूंगा आग, जानें किस बात पर भड़के बीजेपी महासचिव

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने इंदौर के आयुक्त से मुलाकात न होने पर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को जमकर धमकाया और यहां तक कह डाला कि अगर संघ के पदाधिकारी शहर में मौजद न होते तो वो इंदौर में आग लगा देते।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने इंदौर के आयुक्त से मुलाकात न होने पर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को जमकर धमकाया और यहां तक कह डाला कि अगर संघ के पदाधिकारी शहर में मौजद न होते तो वो इंदौर में आग लगा देते। विजयवर्गीय का यह वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। शहर की समस्याओं को लेकर अधिकारियों के साथ विजयवर्गीय शुक्रवार को बैठक करना चाहते थे। इसके लिए बीजेपी जिलाध्यक्ष के माध्यम से अधिकारियों को पत्र भी लिखा गया था। इस बैठक में हिस्सा लेने कोई अधिकारी नहीं पहुंचा तो विजयवर्गीय आक्रोशित हो गए। उसके बाद वह आयुक्त आकाश त्रिपाठी के आवास के सामने पहुंचकर धरने पर बैठ गए। उनके साथ सांसद शंकर लालवानी सहित अन्य बीजेपी नेता भी मौजूद थे।

धरना और संभागायुक्त त्रिपाठी से मुलाकात के मुद्दे पर विजयवर्गीय की पुलिस अधिकारियों से तीखी नोक-झोक हुई। वीडियो में विजयवर्गीय कह रहे हैं, "यह चिट्ठी लिखी है कि हम मिलना चाहते हैं। उन्हें यह भी सूचना नहीं दोगे कि हम आए हैं। यह बर्दाश्त नहीं करेंगे अब। हमारे संघ के पदाधिकारी हैं, नहीं तो आज आग लगा देते हम इंदौर में।"

इस वीडियो का कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता और मीडिया विभाग के उपाध्यक्ष सैयद जाफर ने ट्वीट किया है। इसके साथ उन्होंने लिखा है कि कैलाश विजयवर्गीय यह बात एडीएम तोमर से कह रहे हैं।

वहीं मध्यप्रदेश कांग्रेस ने भी इस वीडियो को ट्वीट किया है। ट्वीट में लिखा गया है कि, ‘बेटा बल्लामार- बाप आगबाज..! सुनिये ! इंदौर में माफियाओं पर जारी कार्रवाई से तिलमिलाये बीजेपी के महासचिव इंदौर शहर को आग लगाने की धमकी देते हुये..! —पश्चिम बंगाल का अनुभव सर चढ़कर बोल रहा है..? कैलाश जी, किसी मुग़ालते में मत रहना, अब शिवराज का सर्कस नही, कमलनाथ की सरकार है।’

बता दें कि कैलाश विजयवर्गीय की गिनती बीजेपी के बड़े नेताओं में होती है। उनके बेटे आकाश विजयवर्गीय भी अधिकारी को मारने के बाद चर्चा में आए थे। इंदौर में एक जर्जर इमारत को गिराने पहुंची निगम की टीम के अधिकारी पर आकाश विजयवर्गीय ने बैट चला दिया था। घटना के बाद आकाश विजयवर्गीय को पुलिस ने ना केवल गिरफ्तार किया था बल्कि करीब 5 दिनों तक जेल में रहना पड़ा था। इसके बाद भोपाल की विशेष अदालत से आकाश विजयवर्गीय की जमानत हुई थी।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

लोकप्रिय