दिल्ली: रोडशो के दौरान एक शख्स ने केजरीवाल को जड़ा थप्पड़, पत्नी ने कहा- मोदी के खिलाफ बोलने से थे नाराज, देखें वीडियो

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने हमले के लिए पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह जिम्मेदार ठहराया है। सिसोदिया ने ट्वीट करते हुए लिखा- क्या मोदी और अमित शाह अब केजरीवाल की हत्या करवाना चाहते हैं?

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक अरविंद केजरीवाल को राजधानी में एक रोडशो के दौरान एक शख्स ने ने थप्पड़ मार दिया। शख्स का नाम सुरेश बताया जा रहा है। पुलिस उससे पूछताछ कर रही है। केजरीवाल पश्चिम दिल्ली के मोती नगर इलाके में पार्टी उम्मीदवार बलबीर सिंह जाखड़ के साथ प्रचार कर रहे थे। वह एक रोडशो के लिए जैसे ही एक खुली जीप पर सवार हुए, मरून रंग का टी-शर्ट पहने एक व्यक्ति ने जीप के बोनट पर चढ़कर उन्हें थप्पड़ मार दिया।

सुरेश की पत्नी का कहना है कि वह केजरीवाल से नाराज था। सुरेश पीएम मोदी का सपोर्टर है और वह मोदी के खिलाफ कुछ भी नहीं सुनना चाहता है।

आप कार्यकर्ताओं और समर्थकों ने कथित हमलावर को पकड़ लिया। दिल्ली पुलिस हमलावर से पूछताछ कर रही है। इसके बाद सियासी गलियारों में आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया। आप नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्विट कर कहा कि, ‘बार बार अरविंद केजरीवाल की सुरक्षा में चुक हो जा रही है, क्या मोदी सरकार केजरीवाल पर किसी बड़े हमले का इंतजार कर रही है या फिर कोई बड़ी साजिश है?

वहीं दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने हमले के लिए पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह जिम्मेदार ठहराया है। सिसोदिया ने ट्वीट करते हुए लिखा- क्या मोदी और अमित शाह अब केजरीवाल की हत्या करवाना चाहते हैं?

वहीं, पूर्वी दिल्ली से आप की उम्मीदवार आतिशी ने ट्वीट किया, आज केजरीवाल पर हमला इस बात का संकेत है कि बीजेपी रुक सकती है! उन्होंने 2015 के दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले भी यही किया था और साल 2015 में आम आदमी पार्टी ने 70 में 67 सीटें जीती थी और फिर बीजेपी का ये हमला दर्शाता है कि आप पार्टी को दिल्ली में 7 में से 7 सीटें मिलेंगी।

केजरीवाल पर हुए हमले की विपक्षी दलों ने भी कड़ी निंदा की है। कांग्रेस, समाजवादी पार्टी सहित कई दलों के नेताओं ने इस गलत करार दिया है। उनका कहना है कि लोकतंत्र में विचारधार पर असमत हो सकते हैं लेकिन किसी पर हाथ नहीं चला सकते हैं।

बता दें कि दिल्ली के सीएम केजरीवाल की सुरक्षा में सेंध का यह पहला मामला नहीं है, इससे पहले भी उन पर मिर्च फेंककर, जूता उछालकर और थप्पड़ के जरिए हमले हो चुके हैं।

नवंबर 2018 में एक युवक अपनी समस्या को लेकर मुख्यमंत्री केजरीवाल से मिलने गया था और मिलने के दौरान उसने मुख्यमंत्री पर मिर्च पाउडर फेंक दिया था। इस दौरान केजरीवाल का चश्मा भी टूट गया था। वहीं साल 2014 में लोकसभा चुनाव के दौरान एक ऑटो ड्राइवर ने उन्हें थप्पड़ मार दिया था। ड्राइवर उन्हें माला पहनाने आया था और इसी दौरान उसने थप्पड़ जड़ दिया था।

दिसंबर 2014 में उन पर पत्थर से हमला किया गया, लेकिन वह बाल-बाल बच गए थे। इसी हफ्ते एक रैली में उन पर अंडे फेंके गए थे। पंजाब के लुधियाना में फरवरी 2016 में उनकी कार पर लोहे की रॉड और अंडों से हमला किया गया था, जिसमें कार के शीशे टूट गए थे।

दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में ऑड-ईवन फार्मूले के ट्रायल से संबंधित सभा के दौरान एक महिला ने उन पर स्याही फेंककर इसका विरोध किया था। दिल्ली सचिवालय में अप्रैल 2016 में एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान उनकी ओर जूता उछाल कर विरोध जताया गया था।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Published: 4 May 2019, 9:30 PM
लोकप्रिय