देश कोरोना से बेहाल, पर बीजेपी-एनडीए की चुनाव पर निगाह, कल ऑनलाइन रैली में शाह फूंकेंगे बिहार चुनाव का बिगुल

बीजेपी की ओर से तो इस रैली को चुनावी अभियान नहीं बताया गया है, लेकिन मौजूदा संकट में इतने बड़े पैमाने पर कार्यक्रम को देख कोई भी असल खेल समझ सकता है। बीजेपी के एक नेता के अनुसार इस रैली के जरिए शाह कार्यर्काओं में जोश भरने के साथ चुनाव जीतने की टिप्स भी देंगे।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

पूरे देश पर छाए कोरोना संकट के बीच भारतीय जनता पार्टी के पूर्व अध्यक्ष और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह रविवार को बिहार में एक ऑनलाइन रैली को संबोधित करेंगे। इस रैली को इसी साल अक्टूबर-नवंबर में संभावित बिहार विधानसभा चुनाव अभियान की शुरुआत के तौर पर देखा जा रहा है। किसी राजनीतिक दल की ओर से डिजिटल माध्यम से हो रहे इस तरह के पहले कार्यक्रम को बीजेपी जहां प्रत्येक क्षेत्र में सफल बनाने में जुटी है, वहीं इसे लेकर कई तरह के सवाल भी खड़े हो रहे हैं।

बीजेपी के ही एक बड़े नेता की मानें तो इस रैली के जरिए शाह जहां कार्यर्काओं में जोश भरने की कोशिश करेंगे, वहीं चुनाव जीतने को लेकर टिप्स भी देंगे। रविवार की इस रैली को लेकर प्रदेश बीजेपी मुख्यालय में विशेष इंतजाम किया जा रहा है। कार्यक्रम का संचालन पटना से ही होगा। इस दिन मुख्यालय में प्रदेश अध्यक्ष डॉ़ संजय जायसवाल, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी समेत सभी वरिष्ठ नेताओं के मौजूद रहने की संभावना है।

बीजेपी की ओर से हालांकि आधिकारिक तौर पर इस रैली को चुनावी अभियान नहीं बताया जा रहा है। लेकिन कोरोना के मौजूदा संकट में इतने बड़े पैमाने पर कार्यक्रम को देखकर कोई भी असल खेल समझ सकता है। कल शाह को सुनने के लिए बिहार के सभी विधानसभा क्षेत्रों के बूथों पर लाखों लोगों के फेसबुक लाइव के जरिये सुनने का इंतजाम किया गया है। 'बिहार जनसंवाद' नाम के इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए पार्टी के सांसद, विधायक, विधान पार्षद, सभी प्रदेश पदाधिकारी, जिला प्रभारी, विधानसभा प्रभारी और चुनाव लड़े पूर्व प्रत्याशी लगाए गए हैं।

बीजेपी के ही अनुसार 'बीजेपी फॉर बिहार लाइव' के माध्यम से बिहार के 243 विधानसभा क्षेत्र के 72 हजार 723 बूथों, संगठनात्मक 45 जिलों के 9547 शक्ति केंद्रों और 1099 मंडलों में बीजेपी कार्यकर्ता गृहमंत्री को सुनेंगे। कार्यक्रम के व्यापक प्रचार-प्रसार के लिए पूरे राज्य में सभी जगहों पर बैनर-होर्डिग लगाए गए हैं।

इससे साफ है कि अमित शाह की यह रैली बिहार चुनाव के लिए बीजेपी का शंखनाद है। यह केवल बीजेपी का हाल नहीं है। एनडीए और केंद्र की सरकार में शामिल रामविलास पासवान की पार्टी एलजेपी का भी यही हाल है। शनिवार को एलजेपी ने भी ऐलान किया कि नवंबर में संभावित बिहार चुनाव को लेकर उनकी पार्टी एक्शन मोड में आ चुकी है। और पार्टी ने सभी 243 विधानसभा सीटों पर तैयारियां तेज कर दी हैं।

बता दें कि बीजेपी का बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) के साथ गठबंधन है। गठबंधन के दोनों दल चुनावी मोड में आ चुके हैं। हालांकि नीतीश कुमार की पार्टी अभी ऊपरी तौर पर शांत नजर आ रही है।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

लोकप्रिय