राजस्थान में चुनावी रणभेरी! 23 नवंबर को वोटिंग, 3 दिसंबर को नतीजे, खाचरियावास का दावा- 100% कांग्रेस ही चुनाव जीतेगी

राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए 30 अक्तूबर 2023 को अधिसूचना जारी होगी। नामांकन करने की अंतिम तिथि 6 नवंबर है और नामांकन पत्रों की जांच 7 नवंबर को होगी।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

राजस्थान में चुनावी रणभेरी बज गई है। चुनाव आयोग ने विधानसभा चुनाव 2023 के लिए तारीखों का ऐलान कर दिया है। मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने सोमवार को नई दिल्ली में सभी पांच राज्यों में होने जा रहे विधानसभा चुनावों की तारीखों का ऐलान करते हुए बताया कि राजस्थान में 16वीं विधानसभा चुनाव के लिए एक फेज में 23 नवंबर को मतदान कराए जाएंगे।

राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए 30 अक्तूबर 2023 को अधिसूचना जारी होगी। नामांकन करने की अंतिम तिथि 6 नवंबर है और नामांकन पत्रों की जांच 7 नवंबर को होगी। 9 नवंबर तक नाम वापस लिये जा सकते हैं। राजस्थान में विधानसभा की कुल दो सौ सीटें हैं। चुनाव आयोग के मुताबिक राज्य में कुल मतदाताओं की संख्या 5.26 करोड़ है। इनमें से 2.73 करोड़ पुरुष और 2.51 करोड़ महिला मतदाता हैं। इस बीच राज्य में चुनावी हलचलें तेज हो गई हैं।


100% उम्मीद है कि कांग्रेस ही चुनाव जीतेगी

राजस्थान चुनाव की घोषणा पर राजस्थान सरकार में मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा, "मैं लोगों से अपील करता हूं कि एक तरफ कांग्रेस और दूसरी तरफ बीजेपी के केंद्र के काम को रखिए, हमारा काम अच्छा हो तो हमारे साथ आईए। हमने जो काम किया है वह लोगों को दिख रहा है... काम किया दिल से, कांग्रेस फिर से। हमने दिल से काम किया है इसलिए हमें 100% उम्मीद है कि कांग्रेस ही चुनाव जीतेगी।"

राजस्थान की जनता कांग्रेस की सरकार को दोहराएगी

वहीं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा, "बीजेपी अपनों पर ही आक्रामक है। देश के प्रधानमंत्री को बार-बार ये जाकर बताना पड़ रहा है कि हमारा कोई चेहरा नहीं होगा। इसका मतलब ये है कि बीजेपी में अंदरूनी फूट है, दूसरी तरफ हम (कांग्रेस) एक हैं। हम एकजुटता के साथ काम करते हैं। हम अब जनता के बीच जाकर राजस्थान सरकार के सभी कामों को बताएंगे और हमें पूरी उम्मीद है कि राजस्थान की जनता कांग्रेस की सरकार को दोहराएगी।"


2018 विधानसभा चुनाव के नतीजे

मतदान की तिथि का ऐलान होते ही राज्य में आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू हो गया है। राज्य में बीजेपी और कांग्रेस दो बड़े दल हैं। पिछले कई विधानसभा चुनावों के बाद सत्ता इन्हीं दोनों दलों में से किसी एक के पास बारी-बारी से रहती है। पिछली बार राज्य में चुनावों के नतीजे 11 दिसंबर 2018 को जारी किए गए थे, जहां अलवर की रामगढ़ सीट छोड़कर बाकी 199 सीटों पर मतदान करवाया गया था। पिछले विधानसभा चुनावों में कांग्रेस ने बीजेपी को मात देते हुए 99 सीटें जीती थी। हालांकि उपचुनाव की जीत और बीएसपी विधायकों के विलय के बाद विधानसभा में सत्ता पक्ष यानी कांग्रेस के विधायकों की संख्या 108 हो गई। वहीं बीजेपी फिलहाल 70 सीटों पर काबिज है, जबकि 22 अन्य विधायकों में तेरह निर्दलीय शामिल हैं।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;