यूपी विधानसभा चुनाव को लेकर निर्वाचन आयोग का बड़ा बयान, कहा- समय पर चुनाव चाहती हैं सभी पार्टियां, लेकिन...

आयोग ने बताया कि यूपी के सभी राजनीतिक दलों ने समय पर चुनाव करने की मांग की है। एसे में यह माना जा रहा है कि यूपी विधानसभा चुनाव टाला नहीं जाएगा।

फोटो: ANI
फोटो: ANI
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर गुरुवार को चुनाव आयोग ने लखनऊ में अहम प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इसमें अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर बात की गई। आयोग ने बताया कि यूपी के सभी राजनीतिक दलों ने समय पर चुनाव करने की मांग की है। ऐसे में यह माना जा रहा है कि यूपी विधानसभा चुनाव टाला नहीं जाएगा।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में चुनाव आयोग ने बताया कि यूपी में 15 करोड़ से ज्यादा मतदाता हैं। चुनाव आयोग के अनुसार यूपी में 52.8 लाख नए मतदाता जोड़े गए हैं। पांच जनवरी को फाइनल सूची आएगी। इसके बाद भी सूची में खामियों का निपटारा किया जाएगा। हालांकि, कुछ राजनीतिक दल ज्यादा रैलियों के खिलाफ हैं। वहीं सोशल मीडिया पर भी निगरानी रखी जाएगी। किसी भी तरीके से आपत्तिजनक पोस्ट पर कार्रवाई की जाएगी। राज्यों की सीमाओं पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे।


मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने कहा, हमने राजनीतिक पार्टियों के साथ बैठक की थी। राजनीतिक दलों की मांग है कि समय पर चुनाव कराया जाए। रैलियों में नफरती भाषण और रैलियों में हो रही भीड़ पर भी कुछ दलों ने चिंता जताई है। पोलिंग बूथ पर पर्याप्त संख्या में महिला बूथकर्मी की भी मांग की गई है।

कोरोना संक्रमित मतदाता और दिव्यांग मतदाताओं को घर पर ही वोट डालने की सुविधा

कोरोना को देखते हुए 80 वर्ष से अधिक आयु वाले मतदाता, कोरोना संक्रमित मतदाता और दिव्यांग मतदाताओं को घर पर ही वोट डालने की सुविधा प्रदान की जाएगी। चुनाव आयोग मतदान प्रतिशत में कमी को लेकर भी चिंता जताई है। मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि 2017 के मतदान का प्रतिशत 61% था, जो लोकसभा चुनाव के समय में घटकर 59% हो गया था। वोटिंग प्रतिशत घटना चिंता का विषय है। वहीं मतदान के समय को भी बढ़ाने की बात कही गई है। सुशील चंद्रा ने कहा कि कोरोना को ध्यान में रखते हुए मतदान का समय सुबह 8-5 बजे तक था उसे बढ़ाकर 8-6 बजे तक किया जाएगा।


वरिष्ठ नागरिकों और दिव्यांगों के लिए विशेष व्यवस्था

सीईसी ने कहा कि मतदान केंद्रों पर वरिष्ठ नागरिकों और दिव्यांगों के लिए विशेष व्यवस्था की जाएगी और उन्हें पोस्टल बैलेट का विकल्प भी दिया जाएगा, जिसकी सूची राजनीतिक दलों को उपलब्ध कराई जाएगी। "हमने संबंधित अधिकारियों से व्यवस्थाओं का निरीक्षण करने और मतदाताओं के लिए पानी, शौचालय, बैठने की व्यवस्था, रैंप और व्हील चेयर की सुविधा सुनिश्चित करने के लिए कहा है।"

चुनाव ड्यूटी पर तैनात सभी कर्मियों का पूर्ण टीकाकरण

उन्होंने कहा कि चुनाव ड्यूटी पर तैनात सभी कर्मियों का पूर्ण टीकाकरण किया जाएगा, जबकि मतदान केंद्रों पर थर्मल स्कैनर, मास्क, सैनिटाइजर उपलब्ध रहेंगे। उन्होंने कहा, "हमने अधिकारियों से बात की है और उन्हें टीकाकरण को तेज करने के लिए कहा है ताकि चुनाव के समय तक योग्य आबादी का टीकाकरण हो सके।"


हर विधानसभा क्षेत्र में 10 मॉडल बूथ

चुनाव आयोग इस बार हर विधानसभा क्षेत्र में 10 मॉडल बूथ भी बनाएगा। चंद्रा ने कहा कि उन्होंने पुलिस अधिकारियों के साथ कानून-व्यवस्था की स्थिति के बारे में चर्चा की और उनसे मतदाताओं, विशेषकर महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा। मतदान केंद्रों पर अतिरिक्त महिला पुलिसकर्मी तैनात की जाएंगी।

उन्होंने कहा, "हमने अन्य एजेंसियों से यह भी सुनिश्चित करने को कहा है कि चुनाव के दौरान पैसे और शराब या किसी अन्य मुफ्त चीजों का वितरण न हो।"

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 30 Dec 2021, 1:35 PM