कर्नाटकः BJP ने क्रॉस वोटिंग के डर से कैबिनेट विस्तार टाला, विधान परिषद और राज्यसभा चुनाव को देखते हुए फैसला

बीजेपी आलाकमान सावधानी से चल रहा है और निर्णय लेने के लिए अपना समय ले रहा है। आलाकमान पुराने मंत्रियों को हटाने पर भी विचार कर रहा है। इसकी चिंता में बैठे मौजूदा मंत्रियों ने दिल्ली में अपने गॉडफादर के जरिए लॉबिंग शुरू कर दी है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कर्नाटक में सत्तारूढ़ बीजेपी ने कैबिनेट का विस्तार फिलहाल टाल दिया है। पार्टी सूत्रों ने बताया कि विधान परिषद और राज्यसभा के चुनाव को देखते हुए यह फैसला लिया गया है। पार्टी नेताओं ने असंतुष्ट सदस्यों द्वारा क्रॉस वोटिंग के डर से इसे टालने का फैसला किया है। परिषद की 9 सीटों और राज्यसभा की 4 सीटों के लिए चुनाव पहले ही घोषित हो चुके हैं। ऐसे में शीर्ष नेतृत्व कोई जोखिम नहीं लेना चाहता और कैबिनेट विस्तार से भानुमती का पिटारा खोलने के पक्ष में नहीं है।

इसके अलावा, मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई 22 से 26 मई तक होने वाले स्विट्जरलैंड के दावोस में विश्व आर्थिक मंच में भाग लेने के लिए यूरोप का दौरा कर रहे हैं। सरकार को राज्य भर में तालुक और जिला पंचायतों के साथ-साथ बेंगलुरु में बीबीएमपी चुनावों के लिए स्थानीय निकाय चुनावों का फैसला भी करना है।

सीएम बोम्मई ने हाल ही में कहा था कि पार्टी आलाकमान कैबिनेट विस्तार पर अंतिम फैसला करेगा। उन्होंने यह भी कहा था कि पूर्व सीएम बी.एस येदियुरप्पा के बेटे बी.वाई विजयेंद्र को राज्य में एमएलसी चुनाव लड़ने के लिए टिकट आवंटित करने का निर्णय शीर्ष नेतृत्व करेगा।कोर कमेटी ने एमएलसी के लिए विजयेंद्र के नाम की सिफारिश की थी। पार्टी के सूत्रों का कहना है कि विजयेंद्र को मंत्री पद मिलना तय है।


हालांकि, वरिष्ठ नेताओं ने अभी तक इस मुद्दे पर अंतिम निर्णय नहीं लिया है। पार्टी आलाकमान ने अपने सूत्रों के जरिए मंत्रियों के प्रदर्शन और लोकप्रियता का सर्वे कराया है। सूत्रों का कहना है कि पार्टी एक कैबिनेट बनाने पर विचार कर रही है, जिससे आगामी विधानसभा चुनावों में पार्टी को फायदा हो सके।

इस बीच, कैबिनेट विस्तार में देरी होने के कारण विपक्षी कांग्रेस ने बयान जारी कर कहा है कि बीजेपी के कई शीर्ष नेताओं ने उनसे संपर्क किया है। बीजेपी आलाकमान सावधानी से चल रहा है और निर्णय लेने के लिए अपना समय ले रहा है। आलाकमान पुराने मंत्रियों को हटाने पर भी विचार कर रहा है। इसकी चिंता में बैठे मौजूदा मंत्रियों ने दिल्ली में अपने गॉडफादर के जरिए लॉबिंग शुरू कर दी है।

इस समय कर्नाटक में 5 कैबिनेट बर्थ खाली हैं और पार्टी 10 नए चेहरों को शामिल करना चाहती है। पार्टी गृह मंत्री को बदलने पर भी विचार कर रही है। मौजूदा राजस्व मंत्री आर. अशोक को इस पद के लिए तरजीह बताया जा रहा है। वर्तमान में, बीजेपी के कट्टर और हिंदुत्ववादी अरागा ज्ञानेंद्र उस विभाग को संभाल रहे हैं।

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव बी.एल. संतोष का हालिया बयान कि नेतृत्व में बदलाव लाना बीजेपी की ताकत है, ने राज्य के राजनीतिक गलियारों में हलचल मचा दी है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नलिन कुमार कतील और पूर्व सीएम येदियुरप्पा ने हालांकि स्पष्ट किया है कि राज्य में सीएम बदलने पर कोई चर्चा नहीं हो रही है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia