ममता के 40 विधायक तोड़ने का दावा तो कर दिया मोदी ने, लेकिन क्या सीटों का अंकगणित भी समझते हैं पीएम !

प्रधानमंत्री ने हुगली में एक चुनावी सभा में कहा कि, “दीदी, 23 मई के बाद आपके विधायक भी आपको छोड़कर भाग जाएंगे। आपके 40 विधायक मेरे संपर्क में हैं।” इस बयान से साफ हो जाता है कि प्रधानमंत्री मोदी अंकगणित में भी काफी कमजोर हैं।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा राजनीतिक विमर्श के हर दिन नई गहराइयों के गर्त में धकेलने की कोशिशें जारी हैं। लेकिन सोमवार को तो उन्होंने हदें पार कर दीं, जब उन्होंने खुलेआम विधायकों की खरीद-फरोख्त का ऐलान कर दिया। इसके पीछे उनकी मंशा साफ थी कि वे ममता बनर्जी की अगुवाई वाली तृणमूल कांग्रेस सरकार को गिराना चाहते हैं।

प्रधानमंत्री ने हुगली में एक चुनावी सभा में कहा कि, “दीदी, 23 मई के बाद आपके विधायक भी आपको छोड़कर भाग जाएंगे। आपके 40 विधायक मेरे संपर्क में हैं।”

नैतिकता से यूं तो प्रधानमंत्री को वैसे भी कोई मतलब नहीं है, तो नैतिकता को अलग भी रख दें तो साफ हो जाता है कि प्रधानमंत्री मोदी अंकगणित में भी काफी कमजोर हैं।

पश्चिम बंगाल विधानसभा में कुल 295 सीटें है। अगर बीजेपी के ममता सरकार गिराकर अपनी सरकार बनानी है तो उसे कम से कम 148 विधायक चाहिए होंगे। फिलहाल बीजेपी के पास सिर्फ 2 विधायक हैं। यानी उसे कम से कम 146 विधायकों से दलबदल कराना होगा।

दूसरी बात, अगर तृणमूल के 40 विधायक ममता सरकार से अलग हो भी जाते हैं, तो भी 42 विधायकों के साथ बीजेपी मुख्य विपक्षी दल तक नहीं बन पाएगी। 2016 के चुनाव में कांग्रेस और वाम मोर्चे ने मिलकर चुनाव लड़ा था और उनके 74 विधायक हैं।

दरअसल जमीनी हकीकत वाली सूचनाएं सामने आने से बीजेपी में हताशा बढ़ती जा रही हैं। बूथ स्तर से आने वाली रिपोर्टें संकेत देती हैं कि मोदी की अगुवाई वाली बीजेपी को इस लोकसभा चुनाव में खासा नुकसान होने वाला है। एक अनुमान के मुताबिक बीजेपी कम से कम 100 सीटें तो हिंदी पट्टी में ही हारने वाली है। साथ ही गुजरात, कर्नाटक और महाराष्ट्र में होने वाला नुकसान अलग से।

वैसे बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह दावा करते हैं कि बंगाल में उनकी पार्टी 23 सीटें जीतेगी। लेकिन काश, ख्वाहिशें पूरी हुआ करतीं। बंगाल चुनाव की तस्वीर बताती है कि उसे 2 – 3 सीट से ज्यादा नहीं मिल सकतीं। हो सकता है कि बीजेपी के हिस्से में यह भी न आएं। हकीकत तो यह भी है कि बीजेपी को कई सीटों पर उम्मीदवार तक नहीं मिल रहे थे। इसके अलावा 40 फीसदी से ज्यादा बूथ पर उसके पोलिंग एजेंट तक नजर नहीं आ रहे।

लेकिन मोदी की इस धमकी और बड़बोलेपन को लेकर ट्विटर पर खूब मजे लिए जा रहे हैं।

Published: 29 Apr 2019, 6:36 PM
लोकप्रिय