नीतीश के करीबी ललन सिंह बने JDU के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष, आखिरकार आरसीपी सिंह को देना पड़ा इस्तीफा

बिहार में सत्तारूढ़ जनता दल (युनाइटेड) की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की शनिवार को दिल्ली में हुई बैठक में सांसद राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह को पार्टी का नया अध्यक्ष चुन लिया गया। इससे पहले निवर्तमान अध्यक्ष आरसीपी सिंह ने पद से अपना इस्तीफा दिया।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मौजूदगी में शनिवार को दिल्ली के जंतर मंतर रोड स्थित जेडीयू कार्यालय में हुई पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह को जेडीयू का नया राष्ट्रीय अध्यक्ष चुन लिया गया। ललन सिंह, बिहार की मुंगेर लोकसभा सीट से सांसद हैं। निवर्तमान राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह के मोदी सरकार में कैबिनेट मंत्री बन जाने की वजह से राष्ट्रीय अध्यक्ष पद पर सर्वसम्मति से ललन सिंह का चुनाव हुआ है।

यहां जेडीयू कार्यालय पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में शनिवार की शाम साढ़े 4 बजे से जेडीयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक शुरू हुई। इस दौरान आरसीपी सिंह ने राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा देते हुए अगले अध्यक्ष के तौर पर सांसद ललन सिंह का नाम प्रस्तावित किया। जिसका सभी सदस्यों ने समर्थन किया। जनता दल युनाइटेड की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में पार्टी के सभी सांसद और सभी प्रदेशों के अध्यक्ष ने हिस्सा लिया।


दरअसल, पार्टी के निवर्तमान राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह को हाल ही में मोदी कैबिनेट विस्तार के दौरान मंत्री बनाया गया था, जिसके बाद से ही अध्यक्ष पद पर नए व्यक्ति की ताजपोशी तय मानी जा रही थी। क्योंकि मोदी कैबिनेट विस्तार में जेडीयू को एक सीट मिलने और उस पर खुद आरसीपी सिंह के मंत्री बन जाने पर जेडीयू विवाद शुरू हो गया था। दूसरी तरफ केंद्र में मंत्री बन जाने के बाद संगठन के लिए समय निकालना आरसीपी सिंह के मुश्किल साबित हो रहा था। बता दें कि पिछले साल दिसंबर में पहले आरसीपी सिंह जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष बने थे और बाद में पार्टी ने उन्हें राष्ट्रीय अध्यक्ष की कमान सौंपी थी।

मुंगेर से लोकसभा सांसद ललन सिंह और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की दोस्ती बहुत पुरानी है। 70 के दशक से दोनों एक दूसरे के शुभचिंतक रहे हैं। खास बात है कि जेडीयू की स्थापना के समय से ललन सिंह, नीतीश कुमार के साथ बने हुए हैं। ललन सिंह पार्टी के सबसे वरिष्ठ नेताओं में शुमार हैं। लालू यादव के खिलाफ नीतीश के साथ मिलकर ललन सिंह हमेशा से मोर्चा खोलते रहे हैं। एनडीए कोटे से मोदी सरकार में मंत्री बनने की रेस में भी ललन सिंह का नाम चल रहा था, हालांकि पार्टी ने आरसीपी सिंह का नाम आगे बढ़ाया था। ऐसे में अब उन्हें राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाकर पार्टी ने बड़ी जिम्मेदारी दी है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia