राजस्थान बीजेपी में अंदरूनी कलह जारी, दिल्ली दरबार में हाजिर हुए सतीश पूनिया

राजस्थान भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) प्रमुख सतीश पूनिया ने राज्य इकाई में चल रहे अंदरूनी कलह के बीच राष्ट्रीय राजधानी में केंद्रीय नेतृत्व को प्रदेश की राजनीतिक स्थिति से अवगत कराया।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

राजस्थान भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) प्रमुख सतीश पूनिया ने राज्य इकाई में चल रहे अंदरूनी कलह के बीच राष्ट्रीय राजधानी में केंद्रीय नेतृत्व को प्रदेश की राजनीतिक स्थिति से अवगत कराया। पूनिया ने भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और राजस्थान प्रभारी अरुण सिंह से मुलाकात की और पार्टी और राज्य से संबंधित राजनीतिक मुद्दों पर चर्चा की।

राज्य में अंदरूनी कलह के बीच उनके द्वारा लिखे गए 22 साल पुराने पत्र के वायरल होने के कुछ दिनों बाद पूनिया की नई दिल्ली यात्रा को एक महत्वपूर्ण घटनाक्रम के रूप में देखा जा रहा है।

उन्होंने पत्र में तत्कालीन पार्टी अध्यक्ष और वर्तमान विपक्ष के नेता गुलाब चंद कटारिया को 1999 में युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर पत्र लिखा था। 22 साल पुराने लेटर में सतीश पूनिया ने युवा मार्चा प्रदेशाध्यक्ष पद से इस्तीफा देते वक्त भैरों सिंह शेखावत, हरीशंकर भाभड़ा और ललित किशोर चतुवेर्दी पर पीठ में छुरा घोंपकर टिकट काटने के आरोप लगाए थे।


पार्टी के अंदरूनी सूत्रों ने दावा किया कि पूर्व मंत्री रोहिताश शर्मा को कारण बताओ नोटिस जारी किए जाने के बाद वसुंधरा राजे के खेमे ने पत्र साझा किया था, जिन्हें राजे का करीबी माना जाता है।

पूनिया ने आईएएनएस को बताया कि राष्ट्रीय राजधानी के दौरे के दौरान उन्होंने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं और केंद्रीय मंत्रियों से मुलाकात की। पूनिया ने कहा, मुझे केंद्रीय नेतृत्व द्वारा नहीं बुलाया गया है। मैं पार्टी नेतृत्व के साथ संगठनात्मक मुद्दों पर चर्चा करने के लिए दिल्ली आया हूं। मैंने उन्हें राज्य की राजनीतिक स्थिति के बारे में जानकारी दी।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 01 Jul 2021, 9:01 PM