महाराष्ट्र: बीजेपी में बगावत, पंकजा मुंडे और एकनाथ खड़से छोड़ेंगे पार्टी?

एकनाथ खड़से के बाद बीजेपी सरकार में मंत्री रहीं पंकजा मुंडे ने देवेंद्र फडणवीस के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। पंकजा मुंडे ने पहली बार खुलेआम देवेंद्र फडणवीस पर हमला बोला और आरोप लगाते हुए कहा कि कुछ नेताओं के टिकट काटे जाने का फैसला राज्य स्तर पर हुआ था।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

महाराष्ट्र में जीती हुई बाजी हारने के बाद भारतीय जनता पार्टी (BJP) में फजीहत जारी है। पार्टी के कई नेता पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के खिलाफ खुलकर खड़े हो गए हैं। विधानसभा चुनाव में हार के बाद पंकजा ने बीजेपी के नेताओं के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है। उनका साथ एकनाथ खड़से भी दे रहे हैं।

एकनाथ खड़से के बाद बीजेपी सरकार में मंत्री रहीं पंकजा मुंडे ने देवेंद्र फडणवीस के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। पंकजा मुंडे ने पहली बार खुलेआम देवेंद्र फडणवीस पर हमला बोला और आरोप लगाते हुए कहा कि कुछ नेताओं के टिकट काटे जाने का फैसला राज्य स्तर पर हुआ था। ऐसे में देवेंद्र फडणवीस को चुनावों में पार्टी के प्रदर्शन की जिम्मेदारी लेनी चाहिए। बता दें कि पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने कहा था कि उनके कुछ सहयोगियों के टिकट काटे जाने का फैसला पार्टी की केन्द्रीय कमेटी में किया गया था।

फडणवीस सरकार में कैबिनेट मंत्री रहीं पंकजा मुंडे ने भी हालिया चुनावों में परली विधानसभा सीट से अपने चचेरे भाई और एनसीपी नेता धनंजय मुंडे के हाथों हार का सामना किया है। भाजपा नेता ने आरोप लगाया कि धनंजय मुंडे को समर्थन मिला था, जबकि ‘सरकार हमारी थी’। मराठी न्यूज चैनल एबीपी माझा के साथ बातचीत में मुंडे ने कहा कि “दिल्ली से टिकटों के लिए मना नहीं किया गया था, बल्कि यहां महाराष्ट्र से किया गया था। चुनावों में पार्टी का जो भी प्रदर्शन रहा, फडणवीस को उसकी जिम्मेदारी लेनी चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता तो यदि मेरे सामने दो उम्मीदवार भी होते, तो भी मैं चुनाव नहीं हारती।”


इससे पहले एकनाथ ने महाराष्ट्र बीजेपी अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल के सामने ही देवेंद्र फडणवीस को कोसा और बताया कि पार्टी में नेता घुटन महसूस कर रहे हैं। बीड के पराली में आयोजित रैली में बीजेपी नेता एकनाथ खड़से ने कहा, ‘मैं पार्टी के खिलाफ नहीं बोलूंगा, लेकिन मैं बताना चाहता हूं कि राज्य में पार्टी के शीर्ष पदों पर बैठे पार्टी के नेता अच्छे नहीं हैं। पंकजा मुंडे को बीजेपी के ही नेताओं ने हराया है। हालांकि, पंकजा मुंडे इस्तीफा नहीं देंगी, लेकिन मैं अपने बारे में कुछ नहीं कह सकता हूं।’

पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस पर निशाना साधते हुए एकनाथ खड़से ने कहा, 'आज मैं भारतीय जनता पार्टी में हूं, लेकिन मुझसे कहा गया है इसलिए मैं पार्टी के खिलाफ नहीं बोलूंगा। लेकिन मैं पार्टी के नेताओं के खिलाफ बोल सकता हूं। जिन्होंने मीठी बातें करके अपनों के ही पीठ में खंजर घोंप दिया।’

उन्होंने आगे कहा कि गोपीनाथ मुंडे ने जीवनभर संघर्ष करके पार्टी को खड़ा किया। वो साफ बोलते थे कि मैंने किसी के साथ गलत नहीं किया और ना ही कर सकता। लेकिन कुछ लोगों के पीठ में छुरा घोंप कर लोग मुख्यमंत्री बन गए। पार्टी के बड़े नेता आजकल बीजेपी में घुटन महसूस कर रहे हैं।


एकनाथ खड़से बागी तेवर कायम रखते हुए कहा, 'जिन गोपीनाथ मुंडे ने बीजेपी को खड़ा करने में इतनी मेहनत की उनकी ही बेटी पंकजा मुंडे को कुछ लोगों ने संघर्ष करने में मजबूर कर दिया है। इसके लिए मैं पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का आभार मानता हूं।’

एकनाथ खड़से ने कहा, 'मैंने ऐसा कौनसा गुनाह कर दिया जिससे मेरा टिकट काट दिया गया। ना चोरी की और ना ही भ्रष्टाचार किया। जो मेरे साथ आज पार्टी में हुआ है, वो पंकजा ताई के साथ भी हो सकता है। मैंने पंकजा मुंडे के साथ खड़ा हूं।’

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 12 Dec 2019, 4:30 PM