कई बागी विधायकों से शिवसेना ने संपर्क साधा, उद्धव से सीधी बातचीत के जरिये मेल-मिलाप की कोशिश तेज

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे द्वारा पद छोड़ने की पेशकश और यहां तक कि अपने आधिकारिक सीएम आवास को खाली करने के फैसले के साथ ही एमवीए सहयोगियों के प्रयासों के बावजूद शिवसेना का संकट कम होने का कोई संकेत नहीं दिखता है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के मुंबई में सीएम आवास खाली कर मातोश्री में शिफ्ट होने के बाद शिवसेना अब कई बागी विधायकों के साथ सीधी बातचीत कर रही है। सूत्रों के अनुसार कई के साथ दूतों के माध्यम से भी बात की जा रही है। हालांकि बातचीत किसी नतीजे पर नहीं पहुंची है।

शिवसेना के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा, "विद्रोह की भयावहता ऐसी है कि बचने की गंभीर संभावना है, लेकिन हम उन्हें उलझा रहे हैं और नियमित बातचीत हो रही है।" शिवसेना नेता ने कहा कि एकमात्र उम्मीद यह है कि पार्टी को लगता है कि कई विधायक चुनाव में नहीं जाना चाहते हैं, इसलिए यदि वे पार्टी लाइन का उल्लंघन करने के लिए अयोग्य हैं तो उन्हें फिर से चुनाव लड़ना होगा। आधे विधायक लौटे तो सरकार बच सकती है। उन्होंने बताया कि शिवसेना के विद्रोही बढ़ रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि कोई भी शिंदे से ऐसा करने की उम्मीद नहीं कर सकता था क्योंकि वह शीर्ष नेतृत्व के एक भरोसेमंद व्यक्ति थे।

इससे पहले महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बुधवार देर रात मालाबार हिल स्थित अपना आधिकारिक आवास 'वर्षा' खाली कर दिया और अपने परिवार के साथ बांद्रा स्थित अपने निजी घर मातोश्री लौट गए। यह कदम मंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाले शिवसेना विधायकों के बागी समूह से उनकी भावनात्मक अपील के कुछ घंटों बाद उठाया गया, जिसमें उन्होंने मुख्यमंत्री और पार्टी अध्यक्ष दोनों पद छोड़ने की बात कही, बशर्ते कि विद्रोही उनसे मिलें।


सीएम उद्धव ठाकरे (जो बुधवार सुबह कोविड-19 पॉजिटिव पाए गए थे) ने यह भी कहा कि उन्होंने अपना इस्तीफा पत्र तैयार रखा था और कोई भी विद्रोही जा सकता है और इसे राज्यपाल को सौंप सकता है। इसके कुछ ही देर बाद उद्धव ठाकरे परिवार सहित सीएम आवास छोड़कर अपने पारिवारिक घर पर शिफ्ट हो गए।

हालांकि, इस अपील पर शिंदे ने जवाब दिया कि हिंदुत्व के लिए कदम उठाने होंगे और भारतीय जनता पार्टी के साथ सरकार बनाने के लिए राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस से नाता तोड़ने की अपनी मांग दोहराई। मुख्यमंत्री द्वारा पद छोड़ने की पेशकश या यहां तक कि उद्धव ठाकरे के अपने आधिकारिक आवास को खाली करने के फैसले सहित एमवीए सहयोगियों के प्रयासों के बावजूद संकट कम होने का कोई संकेत नहीं दिखाता है।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia