तेलंगाना चुनाव: बीआरएस उम्मीदवार ने आत्महत्या की 'धमकी' दी, चुनाव आयोग ने रिपोर्ट मांगी

बता दें कि मंगलवार को प्रचार के आखिरी दिन एक चुनावी रैली में बीआरएस उम्मीदवार पी. कौशिक रेड्डी ने कहा था कि अगर वह जीतते हैं तो विजय जुलूस निकाला जाएगा, लेकिन अगर हार गए तो 4 दिसंबर को अंतिम संस्कार जुलूस निकाला जाएगा।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

तेलंगाना विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार प्रसार थम गया है। राज्य में गुरुवार को वोटिंग होगी। इसी बीच बीआरएस के एक उम्मीदवार के बयान से राज्य में हलचल मच गई है। दरअसल चुनाव प्रचार के आखिरी दिन मंगलवार को सत्तारूढ़ बीआरएस के एक उम्मीदवार ने यह कहकर हलचल मचा दी कि यदि वह चुनाव हार गए तो परिवार समेत आत्महत्या कर लेंगे। यह ऐलान हुजूराबाद निर्वाचन क्षेत्र से बीआरएस के उम्मीदवार पी कौशिक रेड्डी ने की। उनके इस बयान पर चुनाव आयोग भी हरकत में आ गया है। चुनाव आयोग ने कौशिक रेड्डी द्वारा मतदाताओं को दी गई कथित धमकी पर रिपोर्ट मांगी है । चुनाव आयोग ने करीमनगर जिले के हुजूराबाद निर्वाचन क्षेत्र के रिटर्निंग अधिकारी को जांच कर रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया।

बता दें कि मंगलवार को प्रचार के आखिरी दिन एक चुनावी रैली में बीआरएस उम्मीदवार पी. कौशिक रेड्डी ने कहा था कि अगर वह जीतते हैं तो विजय जुलूस निकाला जाएगा, लेकिन अगर हार गए तो 4 दिसंबर को अंतिम संस्कार जुलूस निकाला जाएगा।


अपनी पत्नी और बेटी के साथ कौशिक रेड्डी ने लोगों से कहा कि अगर वे उन्हें फांसी पर लटकते हुए देखना चाहते हैं तो यह उनकी इच्छा है। उन्होंने कहा, "यह आप पर निर्भर है कि आप क्या चाहते हैं। अगर आप मुझे वोट नहीं देंगे तो आप हमारी लाशें देखेंगे।"

कौशिक रेड्डी, जो तेलंगाना विधान परिषद के सदस्य हैं, ने लोगों से 30 नवंबर के चुनाव में उन्हें एक मौका देने की अपील की। कौशिक रेड्डी बीजेपी के मौजूदा विधायक और पूर्व मंत्री एटाला राजेंदर और कांग्रेस उम्मीदवार वोडिथला प्रणव के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं।

कौशिक रेड्डी 2018 का चुनाव उसी निर्वाचन क्षेत्र से कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार के रूप में राजेंद्र से हार गए थे, जो उस समय टीआरएस (अब बीआरएस) के टिकट पर चुने गए थे।


2021 में, जब राजेंद्र बीजेपी में शामिल हो गए और उपचुनाव के लिए विधायक पद छोड़ दिया, तो कौशिक रेड्डी ने पार्टी टिकट हासिल करने की उम्मीद में बीआरएस में शामिल होने के लिए कांग्रेस छोड़ दी। हालांकि, बीआरएस ने उपचुनाव में जी. श्रीनिवास यादव को मैदान में उतारा था। राजेंद्र ने 23,000 से अधिक वोटों के साथ सीट बरकरार रखी।

बाद में बीआरएस ने कौशिक रेड्डी को विधान परिषद के लिए नामित किया था। हालांकि, सत्तारूढ़ दल ने उन्हें राजेंद्र का मुकाबला करने के लिए मैदान में उतारा। बीजेपी विधायक गजवेल निर्वाचन क्षेत्र में बीआरएस अध्यक्ष और मुख्यमंत्री केसीआर के खिलाफ भी चुनाव लड़ रहे हैं।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;