यूपी चुनावः मंदिर, हिंदुत्व और 'राष्ट्रवाद' ही बीजेपी का सहारा, सत्ता बचाने के लिए 2022 का रोडमैप तैयार

बीजेपी के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा कि योगी आदित्यनाथ ने अपने शासन के दौरान हिंदुत्व को जीवंत रखा है। उन्होंने धार्मिक कारकों को ध्यान में रखते हुए विकास को बढ़ावा दिया है और निस्संदेह हिंदुत्व के मशाल वाहक के रूप में उभरे हैं। पार्टी इसका फायदा उठाएगी।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश में 2022 के विधानसभा चुनाव के लिए अभी छह महीने से अधिक का समय है, लेकिन सत्तारूढ़ बीजेपी ने अपना रोडमैप तैयार कर लिया है। खबर है कि बीजेपी दूसरी कोविड लहर के कम होने का इंतजार करेगी और फिर धीरे-धीरे राम मंदिर, हिंदुत्व और उग्र राष्ट्रवाद जैसे भावनात्मक मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करते हुए अभियान चलाएगी।

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण और पवित्र शहर के लिए विशाल विकास योजना को बीजेपी और योगी आदित्यनाथ की सबसे बड़ी उपलब्धियों में से एक के रूप में पेश किया जाएगा। पार्टी सूत्रों के अनुसार, बीजेपी कार्यकर्ता 'अयोध्या तो सिर्फ झांकी है, काशी, मथुरा बाकी है' के नारे का राग लगाएंगे।

बीजेपी के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा, "काशी में स्थानीय अदालत ने पहले ही खुदाई की अनुमति दे दी है। भले ही वह कानूनी चक्रव्यूह में बंधा हो, महत्वाकांक्षी काशी विश्वनाथ कॉरिडोर परियोजना नवंबर 2021 तक तैयार हो जाएगी और यह दुनिया भर के हिंदुओं के लिए एक प्रमुख आकर्षण होगा। मंदिर परिसर की भव्यता महामारी की सभी दुखद यादों को मिटा देगी।"

बीजेपी सूत्रों के अनुसार पार्टी कार्यकर्ताओं को पार्टी के 'सेवा ही संगठन' अभियान पर ध्यान केंद्रित करने के लिए कहा गया है, जिसे महामारी के पीड़ितों की सेवा करने और योगी सरकार पर विपक्ष के हमले को रोकने के लिए शुरू किया गया है। बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) बी.एल. संतोष और पार्टी उपाध्यक्ष राधा मोहन सिंह ने बैठकों के दौरान कार्यकर्ताओं को जुटाने और उनकी शिकायतों के निवारण पर जोर दिया है। कार्यकर्ताओं की भावनाओं को शांत करने के लिए एक बड़े कार्यक्रम की भी योजना बन रही है, जो अलग-थलग महसूस कर रहे हैं।

सूत्रों के मुताबिक, बीजेपी की हिंदुत्व कार्ड छोड़ने की कोई योजना नहीं है। पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा, "योगी आदित्यनाथ ने अपने शासन के दौरान हिंदुत्व को जीवंत रखा है। उन्होंने धार्मिक कारकों को ध्यान में रखते हुए विकास को बढ़ावा दिया है और निस्संदेह हिंदुत्व के मशाल वाहक के रूप में उभरे हैं। पार्टी इसका फायदा उठाएगी।"

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia