UP Elections: सपा में शामिल हुए योगी के मंत्री दारा सिंह चौहान, पूर्व IPS अधिकारी असीम अरुण को लेकर अखिलेश ने उठाए सवाल

पिछले सप्ताह योगी आदित्यनाथ सरकार से इस्तीफा देने वाले भाजपा के तीसरे मंत्री दारा सिंह चौहान रविवार को समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए। अपना दल विधायक डॉ. आर.के. वर्मा भी रविवार को पार्टी में शामिल हुए।

फोटो: ANI
फोटो: ANI
user

नवजीवन डेस्क

पिछले सप्ताह योगी आदित्यनाथ सरकार से इस्तीफा देने वाले भाजपा के तीसरे मंत्री दारा सिंह चौहान रविवार को समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए। अपना दल विधायक डॉ. आर.के. वर्मा भी रविवार को पार्टी में शामिल हुए। स्वामी प्रसाद मौर्य के इस्तीफे के बाद दोनों नेताओं और उनके समर्थकों ने भाजपा छोड़ दी थी।

इस अवसर पर बोलते हुए, सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने नेताओं से यह सुनिश्चित करने का आग्रह किया कि भाजपा उम्मीदवारों की उनके निर्वाचन क्षेत्रों में जमानत जब्त हो जाए।

उन्होंने कहा, "भाजपा नकारात्मक राजनीति कर रही है, नफरत को बढ़ावा दे रही है और विभाजन पैदा कर रही है। हम विकास की राजनीति को आगे बढ़ाएंगे।" अखिलेश ने प्रकाशित होने वाले 'फर्जी सर्वेक्षणों' की भी आलोचना की और कहा कि जो दिखाया जा रहा है उससे जमीनी हकीकत बहुत अलग है।

उन्होंने यह भी घोषणा की कि जब उनकी पार्टी सत्ता में आएगी तो वह बिना देर किए जाति जनगणना का आदेश देंगे।


वहीं पूर्व आईपीएस अधिकारी असीम अरुण के बीजेपी ज्वाइन करने पर अखिलेश यादव ने कहा, बताइए कैसे-कैसे लोग वर्दी में छुपे बैठे थे। इन लोगों ने लगातार अन्याय किया। इन्हें अब सरकार से इनाम मिल रहा है। ये जहां भी चुनाव लड़ेंगे, वहां से इनकी जमानत ज़ब्त होगी।

उन्होंने कहा कि मैं चुनाव आयोग से शिकायत करूंगा कि जो अधिकारी पांच साल सरकार के साथ काम कर रहे हैं, उन पर कार्रवाई की जाए। क्योंकि ये लोग बीजेपी के काम कर रहे हैं। अगर चुनाव आयोग ऐसे अधिकारियों पर कार्रवाई नहीं करेगा तो हम नहीं मानेंगे कि चुनाव आयोग निष्पक्ष है। हम पहले चार अधिकारियों की लिस्ट चुनाव आयोग को दे चुके हैं।

इस मौके पर चौहान ने कहा कि 2017 में जब भाजपा की सरकार बनी तब ‘सबका साथ-सबका विकास' का नारा दिया गया था, लेकिन कालांतर में साथ तो सबका लिया गया, मगर विकास कुछ चंद लोगों का हुआ। इस प्रदेश में चंद लोगों का विकास हुआ और बाकी लोगों को उनके हाल पर छोड़ दिया गया। चौहान ने कहा, ‘‘सपा मेरा पुराना घर है और हम उत्तर प्रदेश की सियासत की बदलकर अखिलेश यादव को फिर से यूपी का मुख्यमंत्री बनायेंगे।'' उन्होंने कहा कि वह आने वाले दिनों में सभी पिछड़ों और दलित समाज को लामबंद करेंगे। विरोधी लाख साजिश कर लें, लेकिन यह तूफान रुकने वाला नहीं है, बदलाव होकर रहेगा।


आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 16 Jan 2022, 3:36 PM