उत्तराखंड: 19 मार्च को हो सकती है BJP विधानमंडल की बैठक, इस दिन नए सीएम और मंत्री ले सकते हैं शपथ

उत्तराखंड में नई सरकार को लेकर माथापच्ची जारी है। माना जा रहा है कि पार्टी द्वारा बनाए गए पर्यवेक्षकों को 19 तारीख को देहरादून भेजा जा सकता है, जहां वह विधायकों से चर्चा कर मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा कर सकते हैं

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

उत्तराखंड में नई सरकार को लेकर माथापच्ची जारी है। ऐसा माना जा रहा है कि आगामी 19 मार्च को देहरादून में विधानमंडल दल की बैठक हो सकती है। माना जा रहा है कि पार्टी द्वारा बनाए गए पर्यवेक्षकों को 19 तारीख को देहरादून भेजा जा सकता है, जहां वह विधायकों से चर्चा कर मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा कर सकते हैं, माना जा रहा है कि बीस मार्च को नए मुख्यमंत्री अपने मंत्रिमंडल के साथ शपथ भी ले सकते हैं। आपको बता दें कि पार्टी आलाकमान ना केवल मुख्यमंत्री बल्कि मुख्यमंत्री की संभावित कैबिनेट को लेकर भी खासा मंथन करने में जुटा हुआ है, इसलिए ज्यादातर नेता दिल्ली की राह पकड़ चुके हैं।

उत्तराखंड में मुख्यमंत्री के चयन में भाजपा हाईकमान का फैसला चौंकाने वाला हो सकता है। वर्ष 2017 से अब तक तीन बार मुख्यमंत्रियों के चयन में हाईकमान कुछ अप्रत्याशित फैसले ले चुका है। चौथी विधानसभा के दौरान भाजपा ने राज्य को तीन-तीन मुख्यमंत्री दिए, लेकिन मुख्यमंत्री के ऐलान में कई बार शीर्ष नेतृत्व ने पार्टी कार्यकर्ताओं को चौंकाया है। विधानसभा चुनाव 2022 में सीएम पुष्कर सिंह धामी की हार के बाद भाजपा कई विकल्प पर विचार कर रही है। जिन नेताओं को मुख्यमंत्री का दायित्व दिया गया, उन्हें भी अंतिम क्षणों में जाकर खबर लगी। वर्ष 2017 में मोदी लहर में जीत के बाद आए 57 विधायकों में से पार्टी ने पहले त्रिवेंद्र सिंह रावत को मुख्यमंत्री बनाया था। फिर मार्च 2020 में अप्रत्याशित रूप से त्रिवेंद्र को हटाकर गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत को प्रदेश की कमान सौंप दी। तीरथ का कार्यकाल भी चार महीने ही रह पाया।

हाईकमान ने एक बार फिर हैरान करते हुए खटीमा विधायक पुष्कर सिंह धामी को मुख्यमंत्री बनाया। पहले तीरथ और उनके बाद पुष्कर की एंट्री की किसी को भी उम्मीद नहीं थी, लेकिन हाईकमान ने दोनों नेताओं पर विश्वास जताते हुए जिम्मेदारियां सौंपी। माना जा रहा है कि इस बार भी पहले की तरह ही अप्रत्याशित चेहरा सामने आ सकता है। सीएम का नाम केंद्रीय नेतृत्व तय करेगा।

कैबिनेट मंत्री अरविंद पांडेय ने कहा कि राज्य का नया मुख्यमंत्री कौन होगा, यह केंद्रीय नेतृत्व तय करेगा। उन्होंने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को मिली हार पर बोलते हुए कहा कि धामी ने संगठन को जिताने के लिए काम किया। भाजपा प्रदेश कार्यालय पहुंचे कैबिनेट मंत्री अरविंद पांडेय ने कहा कि राज्य की जनता ने उत्तराखंड के विकास के लिए दोबारा भारतीय जनता पार्टी को राज्य की सत्ता सौंपी। उन्होंने कहा कि भाजपा कोई प्राइवेट लिमिटेड कंपनी नहीं है। यह एक संगठन है और संगठन ही चुनाव लड़ाने से लेकर अन्य सभी जिम्मेदारियां तय करता है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 14 Mar 2022, 3:24 PM