बंगाल उपचुनाव में बीजेपी का नहीं खुला खाता, टीएमसी का सभी सीटों पर कब्जा, ममता बोलीं-अहंकार का नतीजा है

टीएमसी की जीत पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि बीजेपी अपने अहंकार का नतीजा भुगत रही है। उन्होंने कहा, ‘अहंकार की राजनीति नहीं चलेगी। लोगों ने बीजेपी को ठुकरा दिया।’

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

पश्चिम बंगाल विधानसभा उपचुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने शानदार प्रदर्शन किया है। पश्चिम बंगाल में विधानसभा की तीन सीटों के लिए चुनाव कराए गए थे और इन तीनों ही सीटों पर टीएमसी ने कब्जा जमा लिया है। इनमें से दो सीटें तो ऐसी हैं, जिन पर टीएमसी पिछले 20 साल से जीत हासिल नहीं कर पा रही थी।

टीएमसी ने खड़गपुर सदर और कलियागंज सीट पर तीन दशक के बाद जीत हासिल की है। कलियागंज सीट पर टीएमसी के तपन देब ने जीत हासिल की है। तपन ने बीजेपी के कमल चंद्र सरकार को 2 हजार से ज्यादा वोटों से हराया है। वहीं करीमपुर सीट पर टीएमसी ने बीजेपी को 20 हजार से ज्यादा वोटों से हराया। जबकि खड़गपुर सदर सीट को टीएमसी ने बीजेपी से छीन लिया। यहां से टीएमसी के प्रदीप सरकार ने बीजेपी के प्रेम चंद्र झा को 20853 वोटों से हराया।


टीएमसी की जीत पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि बीजेपी अपने अहंकार का नतीजा भुगत रही है। उन्होंने कहा, ‘अहंकार की राजनीति नहीं चलेगी। लोगों ने बीजेपी को ठुकरा दिया।’

बता दें कि पश्चिम बंगाल में विधानसभा की तीन सीटों पर 25 नवंबर को उपचुनाव करा गए थे।विधानसभा की तीन सीटों- खड़गपुर सदर, कालियागंज और करीमपुर के लिए हुए उपचुनाव में 18 उम्मीदवार मैदान में थे। इस चुनाव में पश्चिम बंगाल में करीब सात लाख से अधिक मतदाताओं में से 75.34 फीसदी ने वोट डाले थे।

गौरतलब है कि महुआ मोइत्रा के कृष्णानगर लोकसभा सीट से चुनाव जीतने के बाद करीमपुर सीट खाली हो गई थी। खड़गपुर सदर के विधायक के भी इस साल लोकसभा चुनाव में जीत हासिल करने के बाद यह सीट रिक्त हुई थी जबकि कालियागंज के कांग्रेस विधायक प्रमथनाथ रे के निधन के बाद यहां उपचुनाव कराना जरूरी हो गया था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia