सुरक्षित नहीं है Twitter! सीईओ जैक डॉर्सी का अकाउंट हैक, किए गए आपत्तिजनक ट्वीट्स

हैकरों ने शुक्रवार को Twitter के सीईओ जैक डॉर्सी का अकाउंट हैक कर लिया। हालांकि हालांकि कुछ देर बाद ही इसे रिकवर कर लिया गया। हैकरों द्वारा जैक डॉर्सी के अकाउंट से कई आपत्तिजनक ट्वीट भी किए गए हैं। इतना ही नहीं उनके अकाउंट से ऑफिस में बम होने की अफवाह भी उड़ाई गई।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

हैकरों ने शुक्रवार को Twitter के सीईओ जैक डॉर्सी का अकाउंट हैक कर लिया। हालांकि हालांकि कुछ देर बाद ही इसे रिकवर कर लिया गया। हैकरों द्वारा जैक डॉर्सी के अकाउंट से कई आपत्तिजनक ट्वीट भी किए गए हैं। इतना ही नहीं उनके अकाउंट से ऑफिस में बम होने की अफवाह भी उड़ाई गई। घटना के बाद ट्विटर ने एक स्टेटमेंट भी जारी किया। जिसमें कहा गया कि हम जानते हैं कि जैक डॉर्सी का अकाउंट हैक किया गया है और हम इसकी जांच कर रहे हैं। स्टेटमेंट में कह गया कि जांच के बाद ही ये पता लगाया जा सकेगा कि हैकर्स कौन थे और कहां के रहने वाले हैं।

हैकर्स ने जैक का अकाउंट हैक कर ना केवल आपत्तिजनक ट्वीट किए बल्कि नस्लीय टिप्पणी भी की। हिटलर के तारीफ वाले कई ट्वीट भी किए गए। खुद ट्विटर के सीईओ का अकाउंट होने की वजह से खलबली मच गई और कई यूजर्स ने सवाल खड़े किए कि अगर सीईओ का ही अकाउंट सुरक्षित नहीं है तो हमारा कैसे होगा? यूजर्स ने सवाल किए कि टू स्टेप वेरिफिकेशन ने सीईओ के अकाउंट को सुरक्षित क्यों नहीं रखा।


हैक अकाउंट से से इन हैकर्स ने डिस्कॉर्ड सर्वर का एक लिंक भी शेयर किया। यह एक प्रकार का चैटरूम होता है जिसमें यूजर्स अपने अकाउंट के हैक होने के बाद अपनी भड़ास निकालते हैं। हैकर्स डॉर्सी के अकाउंट के हैक होने के बाद उनकी और उनके फॉलोअर्स की प्रतिक्रिया को मॉनिटर करने के लिए ये लिंक शेयर किया था।

हैकिंग के 30 मिनट बाद ट्विटर ने कन्फर्म करते हुए कहा कि डॉर्सी के अकाउंट का कंट्रोल फिर से उनके पास आ गया है। हालांकि, कंपनी ने यह भी कहा कि उन्हें अपने प्लैटफॉर्म में किसी प्रकार की गड़बड़ी नहीं दिखी। ट्विटर के एक प्रवक्ता ने बताया कि बम होने की अफवाह की भी जांच की गई। जांच में बम होने की बात महज एक अफवाह निकली।


शुक्रवार की शाम ट्विटर ने डॉर्सी के अकाउंट के हैक होने का कारण उनकी टेलिकॉम कंपनी को बताया। कंपनी ने कहा, ' जिस फोन नंबर से डॉर्सी का ट्विटर अकाउंट लिंक था उस नेटवर्क प्रोवाइडर की सिक्यॉरिटी में आई खामी के कारण अकाउंट की हैकिंग हुई। इस तरह की हैकिंग से हैकर्स को विक्टिम के फोन से टेक्स्ट मेसेज के जरिए ट्वीट करने की आजादी मिल जाती है।'

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia