नफरत की राजनीति करने वालों को पसंद नहीं मोहब्बत की निशानी ‘ताज’

यूपी पर्यटन विभाग की बुकलेट में ताजमहल को जगह नहीं देने पर योगी सरकार की सोशल मीडिया पर किरकिरी हो रही है।

फोटो: Getty Images
फोटो: Getty Images
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग की ओर से जारी की गई बुकलेट 'उत्तर प्रदेश पर्यटन-अपार संभावनाएं' में ताजमहल को जगह नहीं दी गई है। इसको लेकर यूपी सरकार की हर तरफ किरकिरी हो रही है। दुनिया के सात अजूबों में शुमार भारत की धरोहर ताजमहल को उत्तर प्रदेश सरकार ने अपने पर्यटन स्थलों की सूची में जगह नहीं दी है। इस बार लिस्ट में गोरखधाम मंदिर को जगह दी गई है। गोरखपुर के देवी पाटन शक्ति पीठ को भी स्थान दिया गया है। दो पेज सिर्फ गोरखधाम मंदिर को दिए गए हैं। इसमें गोरखधाम मंदिर का फोटो, उसका इतिहास और उसका महत्व लिखा है। पहले पेज के अलावा 6वां और 7वां पेज भी गंगा आरती को समर्पित किया गया है।

बुकलेट में ताजमहल को जगह नहीं देने पर हर ओर यूपी सरकार की फजीहत के बाद पर्यटन मंत्री रीता बहुगुणा जोशी ने सफाई देते हुए कहा कि राज्य सरकार विश्व विख्यात ताज महल के विकास के लिए प्रतिबद्ध है। पर्यटन मंत्री ने बताया कि आगरा में ताजमहल और उसके आसपास के क्षेत्रों के विकास के लिए लगभग 156 करोड़ रुपए की योजनाएं स्वीकृत की गई हैं।

पर्यटन पुस्तिका में से ताजमहल का नाम हटाए जाने पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने योगी सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि इसके लिए ‘अंधेर नगरी चौपट राजा‘ की कहावत चरितार्थ होती है। राहुल गांधी ने ट्वीटर पर ताजमहल की तारीफ करते हुए लिखा कि सूरज को दीपक न दिखाने से उसकी चमक नहीं घटती। ऐसे ही राज के लिए कवि भारतेंदु हरीशचंद्र ने लिखा था ‘अंधेर नगरी चौपट राजा‘।

पर्यटन पुस्तिका में से ताजमहल का नाम हटने पर कई लोगों ने सोशल मीडिया पर यूपी सरकार के इस फैसले की तीखी आलोचना की।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 03 Oct 2017, 5:26 PM