तनाव से मुक्ति के लिए कोई आत्‍महत्‍या का रास्‍ता क्‍यों अपनाता है? जानें डॉ. ऋतु शर्मा ने क्या दिया जवाब?

देश में आकस्मिक मौतों और आत्महत्याओं पर राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की रिपोर्ट में कहा गया है कि 2021 में प्रति दिन 35 से अधिक की दर से 13,000 से अधिक छात्रों की मृत्यु हुई।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

आईएएनएस

भारत जैसे उभरते हुए शक्ति केंद्र में एक बेहद प्रतिस्पर्धी माहौल में आम आदमी की सफलता नियमित शिक्षा के रास्‍ते चल कर ही तय होती है। लेकिन क्‍या इस रेस में लक्ष्‍य पर पहुंचने से पहले ही कुछ लोग पूरी तरह हिम्‍मत खो सकते हैं? - कुछ लोगों का जीवन ही समाप्‍त हो जाता है। सम्मानजनक रोजगार तथा आजीविका की इच्छा और ललक के कारण लोग नियमिति शिक्षा प्राप्‍त करते हैं, और यह उनके दिमाग में बेहद छोटी उम्र में ही बिठा दिया जाता है। प्राप्‍तांक और रैंक से इतर ज्ञान और गुणवत्‍तापूर्ण शिक्षा पर बहुत कम ध्‍यान दिया जाता है।

शिक्षा और इसके साथ आने वाला उत्थान एक व्यक्ति और उसके परिवार के लिए उन सामाजिक कठिनाइयों से छुटकारा पाने का एकमात्र प्रवेश द्वार है जो उन्हें जाति या वर्ग के माध्यम से बांधती हैं। हालांकि, इस रास्ते पर यात्रा शायद ही कभी आसान होती है, और युवा छात्रों को इसका पूर्वाभास कराया जाता है।

आंध्र प्रदेश में जब 11वीं और 12वीं कक्षा के नतीजे घोषित हुए तो दो दिन के अंदर नौ बच्चों ने आत्महत्या कर ली। पश्चिम बंगाल का जादवपुर विश्वविद्यालय आत्महत्या के लिए बदनाम है। विभिन्न भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों (आईआईटी) के परिसरों में हाल के महीनों में चार लोगों ने आत्‍महत्‍या की है। आत्महत्या युवाओं में मृत्यु का चौथा प्रमुख कारण है। यह चिंताजनक है क्योंकि देश की 65 प्रतिशत आबादी 35 वर्ष से कम उम्र की है।

लांसेट की 2012 की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में आत्महत्या की दर 15-29 वर्ष के आयु वर्ग में सबसे अधिक है। देश में आकस्मिक मौतों और आत्महत्याओं पर राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की रिपोर्ट में कहा गया है कि 2021 में प्रति दिन 35 से अधिक की दर से 13,000 से अधिक छात्रों की मृत्यु हुई। यह 2020 में 12,526 मौतों की तुलना में 4.5 प्रतिशत अधिक है, जिसमें 10,732 में से 864 आत्महत्याएं परीक्षा में विफलता के कारण हुईं। वर्ष 2021 में 1,834 मौतों के साथ महाराष्ट्र में सबसे अधिक छात्रों ने आत्महत्या की। इसके बाद मध्य प्रदेश में 1,308 मौतें हुईं और तमिलनाडु में 1,246 मौतें हुईं।


स्‍पष्‍ट है कि आत्महत्या को सार्वजनिक स्वास्थ्य चिंता के रूप में पहचान दिलाने के लिए आत्महत्या की रोकथाम पर एक राष्ट्रव्यापी नीति समय की मांग है। कई राज्य और गैर-राज्य एजेंसियां हेल्पलाइन नंबरों और पंक्ति के दूसरे छोर पर आसानी से उपलब्ध सहायता के माध्यम से संकटग्रस्त लोगों की मदद कर रही हैं, मानसिक स्वास्थ्य संबंधी चिंता के समाधान के लिए मदद मांगना तेजी से सामान्य हो रहा है। लेकिन शहरी सीमा से परे समाज के कुछ हिस्सों को शामिल करने के लिए ऐसी प्रणाली और प्रावधान के बारे में जागरूकता का विस्तार होना अभी बाकी है।

आईआईटी में मिड-सेम परीक्षाओं को रद्द करना छात्रों के लिए कुछ दबाव को कम कर कुछ हद तक समस्या का समाधान प्रतीत हो सकता है, लेकिन यह समझना होगा कि क्या यह फ्रैक्चर पर बैंड-एड के जैसा समाधान है या यह अधिक स्थायी तरीके से प्रभावशाली होगा। आईएएनएस ने केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय द्वारा कोविड के समय में छात्रों को मनोवैज्ञानिक मदद मुहैया कराने के लिए शुरू की गई पहल मनोदर्पण की कोर कमेटी सदस्‍य और पेशेवर मनोवैज्ञानिक डॉ. ऋतु शर्मा से संपर्क किया।

डॉ. शर्मा ने बताया कि "आत्महत्या एक क्षणिक विचार है", और एक संस्थागत प्रणाली के माध्यम से ऐसे विचारों को टाला जा सकता है, बशर्ते प्रभावित व्यक्ति मदद लेने के लिए आगे आए। आत्मघाती विचार तब आते हैं जब कोई व्यक्ति निराशा के चरम बिंदु तक पहुंच जाता है और पूर्ण असहायता, निराशा और निरर्थकता की भावना से ग्रस्त हो जाता है। उन्होंने कहा, "आत्महत्या तब होती है जब किसी व्यक्ति के पास आगे देखने के लिए कुछ नहीं होता।" जब आईआईटी-जेईई जैसे सबसे अधिक मांग वाले पाठ्यक्रमों के अभ्यर्थी, जैसा कि कोटा में देखा गया, अपने जीवन को समाप्त करने के लिए चरम कदम उठाते हैं, तो कोई इसका कारण प्रतिस्पर्धा के दबाव को संभालने में छात्र की असमर्थता और कठिन अध्ययन की मांग को बता सकता है। प्रतिष्ठित आईआईटी में छात्रों द्वारा आत्महत्या का रास्ता अपनाने का यही कारण है।

डॉ. शर्मा बताती हैं कि किसी परीक्षा को पास करने का कौशल उसके बाद आने वाली परीक्षाओं से निपटने के लिए आवश्यक कौशल से भिन्न होता है। “छात्र आवश्यक रूप से उस पाठ्यक्रम के प्रति जुनूनी नहीं होते हैं जिसे वे आगे बढ़ाने का इरादा रखते हैं, बल्कि ऐसा वे अपने माता-पिता के कारण करते हैं। ऐसी जगह होने की कल्पना करें जहां आप दूसरों की खुशी के लिए हैं। आप अगला कदम कैसे तय कर पाएंगे (जब पहला कदम भी आपका निर्णय नहीं था)?” उन्होंने जोर देकर कहा, “हमें अपने बच्चों को चूहे की रेस में धकेलना बंद करना होगा। हमें अपने बच्चों पर अधिक अंक लाने के लिए दबाव डालना बंद करना होगा और उनके साथ भावनात्मक रूप से जुड़ना होगा। औसत छात्र उद्योग में अधिक सफल होते हैं।''


इस बात पर जोर देते हुए कि "बच्चों को यह सिखाया जाना चाहिए कि वे जो करते हैं उसका आनंद लें", उन्‍होंने कहा कि यह सामाजिक स्तर पर एक बड़ी समझ की मांग करता है कि प्रत्येक पेशा महत्वपूर्ण है और सभी का सम्मान किया जाना चाहिए। एक समाज के रूप में, यदि हम सभी व्यवसायों का सम्मान करते हैं, तो हमारे बच्चे बेहतर हासिल कर सकेंगे। यह समझ समुदाय से आएगी। यह समझने की भी जरूरत है कि “सफलता इस बात पर भी निर्भर करती है कि आप भीतर से कितना खुश महसूस करते हैं। यहां तक कि एक औसत दर्जे का व्यक्ति भी सफल और खुश हो सकता है।”

मनोवैज्ञानिक ने इस बात पर प्रकाश डालते हुए कि बच्चों को अपने निर्णयों के परिणामों के प्रति जागरूक रहते हुए निर्णय लेने के लिए प्रशिक्षित किया जाना चाहिए, कहा कि यह जरूरी है कि "छात्रों को इस तरह से सशक्त बनाया जाए कि वे अपनी समस्याओं का समाधान-उन्मुख तरीके से ध्यान रख सकें।" उन्‍होंने कहा, “उन्हें यह भी आश्वासन दिया जाना चाहिए कि चाहे वे कुछ भी करें, उनका परिवार उनके साथ रहेगा। इससे विपरीत परिस्थितियों में भी वे स्वयं निर्णय ले सकेंगे। जब आप एक चीज में असफल होते हैं, तो यह कई अन्य रास्तों के लिए दरवाजे खोलता है। लेकिन यह देखने की क्षमता तब आएगी जब छात्र अपने निर्णय स्वयं लेना शुरू करेंगे।

अधिकांश भारतीय बच्चों को आम तौर पर अति-संरक्षित वातावरण में पाला जाता है और एक निश्चित उम्र तक दुनिया देखने और समझने की नियंत्रित अनुमति दी जाती है। जब वे उचित श्रम के बाद बेशकीमती चयन की दौड़ में शामिल होते हैं, तो वे अक्सर चुनौतियों के एक सेट पर काबू पाने के अगले सेट से निपटने के लिए तैयार नहीं होते हैं। स्वस्थ प्रतिस्पर्धा और कल्याण की कुंजी छात्रों को परिणाम-उन्मुख जुनून की बजाय विकास-उन्मुख तरीके से चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार करने में निहित है। किसी भी स्तर पर छात्र के प्रारंभिक चरण में सामाजिक समर्थन अपूरणीय है और सफलता की धारणा को आकार देने में महत्वपूर्ण योगदान देता है।

आख़िरकार, बिल गेट्स और मार्क ज़करबर्ग जैसे लोगों को देखते हुए, (हार्वर्ड) ड्रॉप-आउट होना उतना ही सफलता का प्रतीक है जितना कि आईआईटी-जेईई में सफल होना।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;