ICC विश्व कप 2023 से पहले BCCI की प्राथमिकताओं पर उठ रहे सवाल, कहां हो रही है चूक?

BCCI के लिए कमाई के अलावा, 2022 अन्य कारणों से भी भारतीय क्रिकेट के लिए एक घटनापूर्ण साल था। कप्तान के रूप में कोहली को हटाना, नए कप्तान के रूप में रोहित का आगमन और कोच द्रविड़, और BCCI अध्यक्ष के रूप में सौरव का गांगुली को हटाना अन्य बड़ी घटनाएं थीं, जिन्होंने सर्किट में लहरें पैदा कीं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

भारत के पास सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई), सुपरस्टार्स से भरी टीम, दुनिया की सर्वश्रेष्ठ लीग (आईपीएल) और ढेर सारी प्रतिभाएं हैं। लेकिन इन सबके बावजूद देश पिछले नौ साल से आईसीसी की ट्रॉफी नहीं जीत पाया है, जो हमारी प्राथमिकताओं पर सवाल खड़ा करता है। पहले से ही समृद्ध बीसीसीआई ने 2022 में दो नई आईपीएल टीमों (12,715 करोड़ रुपये) और मीडिया अधिकारों की बिक्री (48,390 करोड़ रुपये) के साथ कुछ बड़ी रकम जोड़ी, जिसकी भारतीय क्रिकेट के शुभचिंतकों ने सराहना की। ऐसा इसलिए है क्योंकि अर्जित धन अंतत: हितधारकों के बीच बांटा जाता है और भारतीय क्रिकेट पारिस्थितिकी तंत्र के प्रत्येक योग्य व्यक्ति तक पहुंचता है।

बीसीसीआई के लिए कमाई के अलावा, 2022 अन्य कारणों से भी भारतीय क्रिकेट के लिए एक घटनापूर्ण वर्ष था। कप्तान के रूप में विराट कोहली को हटाना, नए कप्तान के रूप में रोहित शर्मा का आगमन और कोच राहुल द्रविड़, और बीसीसीआई अध्यक्ष के रूप में सौरव का गांगुली को हटाना अन्य बड़ी घटनाएं थीं, जिन्होंने सर्किट में लहरें पैदा कीं।

हालांकि, यह एशिया कप और आईसीसी टी20 विश्व कप में निराशा थी, जिसने प्रशंसकों को सबसे अधिक आहत किया। भारतीय क्रिकेट प्रशंसकों को उनके पिछले रिकॉर्ड के कारण कप्तान रोहित और कोच द्रविड़ से बहुत उम्मीदें थीं। जबकि रोहित ने पांच आईपीएल खिताब और एक एशिया कप जीता था, द्रविड़ ने उनकी कोचिंग के तहत, विश्व कप जीत के लिए अंडर-19 टीम का नेतृत्व किया था और भारत-ए पक्षों के साथ नवोदित प्रतिभाओं का पोषण कर रहे थे।

टी20 विश्व कप की बात करें तो भारत को अंतिम विजेता इंग्लैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में 10 विकेट से अपमानजनक हार का सामना करना पड़ा। आईसीसी इवेंट ही नहीं, भारत अब न्यूजीलैंड और बांग्लादेश के खिलाफ लगातार एकदिवसीय श्रृंखला हार गया है, जो भविष्य के बारे में कुछ गंभीर सवाल उठाता है। क्या अंतरराष्ट्रीय पुरुष क्रिकेट बीसीसीआई और भारतीय क्रिकेट के हितधारकों की प्राथमिकता सूची में है, या वे सिर्फ आईपीएल की व्यावसायिक सफलता से खुश हैं?

कोई स्पष्ट जवाब नहीं हैं। कोई यह तर्क दे सकता है कि बीसीसीआई खिलाड़ियों को हर संभव सुविधाएं प्रदान कर रहा है, दुनिया के सर्वश्रेष्ठ पेशेवरों को काम पर रख रहा है, तो वे और क्या कर सकते हैं क्योंकि परिणाम देना कोच और खिलाड़ियों पर निर्भर है।

लेकिन, भारतीय क्रिकेट बोर्ड को मेन इन ब्लू के प्रदर्शन की समीक्षा करने और कउउ आयोजनों में टीम की विफलता के मूल कारण का पता लगाने से कोई नहीं रोकता है। यदि कोई मुद्दा है तो बीसीसीआई को इसका समाधान खोजने और कुछ साहसिक निर्णय लेने की जरूरत है।


2015 आईसीसी क्रिकेट विश्व कप में अपने निराशाजनक ग्रुप-स्टेज से बाहर होने के बाद, इंग्लैंड ने कुछ साहसिक फैसले लिए, खेल के लिए एक आक्रामक ²ष्टिकोण अपनाया और अब 50 ओवर और टी20 विश्व कप दोनों के चैंपियन हैं। इसी तरह बीसीसीआई को भी भारतीय पुरुष क्रिकेट पर ध्यान देने की जरूरत है।

खैर, हर कोई जानता है कि भारतीय क्रिकेट में ये चीजें आसान नहीं हैं, जहां खिलाड़ी देवता होते हैं। लेकिन, किसी न किसी को निर्णय लेना ही होगा। कुछ जवाबदेही होनी चाहिए, अन्यथा, भारतीय क्रिकेट को नुकसान होता रहेगा, खासकर आईसीसी आयोजनों में।

राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) से भी प्रश्न पूछे जाने की आवश्यकता है क्योंकि भारतीय क्रिकेट बार-बार होने वाली कई चोटों से पीड़ित है। हाल के दिनों में ऐसे कई उदाहरण हैं, जब कोई खिलाड़ी चोटिल हो जाता है, रिहैब के लिए एनसीए जाता है, फिट हो जाता है, वापसी करता है और सिर्फ दो तीन मैचों के बाद टूट जाता है।

पिछले तीन 50 ओवरों के विश्व कप मेजबानों (भारत - 2011, ऑस्ट्रेलिया - 2015 और इंग्लैंड - 2019) द्वारा जीते गए हैं और भारत अगले साल मेगा इवेंट की मेजबानी कर रहा है। अगर हम अपनी परिस्थितियों में नॉकआउट में अच्छा प्रदर्शन नहीं करते हैं तो यह वाकई शर्म की बात होगी। आखिरकार, यह सब बोर्ड, कोचिंग स्टाफ और खिलाड़ियों की प्राथमिकता पर निर्भर करता है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia